“कांग्रेस को चिंतन नहीं चिंता शिविर की है आवश्यकता” – सुनील जाखड़

पंजाब में कांग्रेस पार्टी में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कई दशक बाद शनिवार को कांग्रेस छोड़ दी। जाखड़ ने पार्टी हाईकमान, दिल्ली में बैठी सीनियर लीडरशिप तथा सोनिया गांधी के नेतृत्व पर सवाल उठाए हैं। सुनील जाखड़ के पिता स्वर्गीय बलराम जाखड़ भी कांग्रेस का बड़ा चेहरा रहे थे।

पिछले करीब एक साल में एक अवसर वह भी आया था जब सुनील जाखड़ को मुख्यमंत्री बनाए जाने की तैयारी हो गई थी और अब वह पार्टी से किनारा कर चुके हैं। सुनील जाखड़ पिछले कई महीनों से शांत बैठे हुए थे।

ये भी पढ़ें – बांध को थी मुख्यमंत्री की प्रतीक्षा, वो निकले और वह टूटा

भेजी गई थी नोटिस
सुनील जाखड़ को हाल ही में संपन्न चुनाव विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार चरणजीत सिंह चन्नी को लेकर बयानबाजी करने के आरोप में कांग्रेस ने नोटिस भेजा था। उन्होंने इस नोटिस का जवाब नहीं दिया। जाखड़ का कहना था कि नोटिस भेजने से पहले कांग्रेस हाईकमान को उनसे बात करनी चाहिए थी। इसी वजह से उन्होंने नोटिस का जवाब नहीं दिया।

ऐसे कह दिया अलविदा
शनिवार को वह फेसबुक लाइव हुए और उन्होंने कांग्रेस को अलविदा कह दिया। कांग्रेस ने हाल ही में सुनील जाखड़ के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटा दिया था। पंजाब कांग्रेस ने उन्हें 2 साल के लिए पार्टी से सस्पेंड करने की सिफारिश की थी, जिस पर सोनिया गांधी को फैसला लेना था।

चिंता शिविर की आवश्यकता
जाखड़ ने कहा कि कांग्रेस को बचाने की जरूरत है। चिंतन शिविर की जगह चिंता शिविर का आयोजन होना चाहिए था। आज कांग्रेस को बचाने के लिए कदम की जरूरत है। वर्तमान में देश के अधिकतर राज्यों में कांग्रेस की हालत गंभीर है। इसके लिए कमेटी बनाकर चर्चा की जानी चाहिए थी। पंजाब चुनाव के साथ-साथ उन्होंने उत्तर प्रदेश चुनाव का भी उदाहरण दिया।

सोनी से संतप्त
सुनील जाखड़ ने कांग्रेस में जातिगत समीकरण को ध्यान में रखकर की जा रही राजनीति पर सवाल उठाए और आलकमान पर निशाना साधा। उन्होंने कांग्रेस आलाकमान पर आरोप लगाया कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाए जाने के बाद सीएम की नियुक्ति के मुद्दे पर अंबिका सोनी की सुनी गई। जाखड़ ने अंबिका सोनी का नाम लेते हुए सोनिया गांधी से उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।

सोनिया गांधी से किया प्रश्न
जाखड़ ने कहा कि उनके परिवार की तीन पीढ़ियों ने 50 साल तक कांग्रेस की सेवा की। इसके बावजूद पार्टी लाइन पर नहीं चलने के लिए पार्टी के सभी पदों से हटा दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की बुरी हालत है और वह खटिया पर है। उन्होंने कांग्रेस को गुड बाय भी कह दिया। उन्होंने पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रभारी हरीश रावत पर भी हमला किया और पार्टी में विवाद के दौरान उनकी भूमिका पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अनुशासन कमेटी द्वारा मुझे नोटिस देना बहुत ही चोट पहुंचाने वाला है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अनुशासन कमेटी की रिपोर्ट पर मुझे पार्टी के सभी पदों से हटाने का पत्र जारी किया। यह सिवाय मजाक के और कुछ नहीं है। सोनिया बताएं कि मैं किस पद पर था, जो मुझे हटाया गया। हकीकत यह है कि मैं पार्टी में किसी पद पर था ही नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here