हजारों परिवारों के आश्रयदाता और भाजपा विधायक आर.एन सिंह नहीं रहे

आर.एन सिंह मुंबई के उत्तर भारतीय समाज के चर्चित चेहरे थे।

गांवों से नौकरी की आस लगाए मुंबई आनेवाले हजारों लोगों के लिए एक परिचित नाम रहा है आर.एन सिंह। उनकी देशव्यापी सुरक्षा रक्षक कंपनी के माध्यम से ऐसे हजारों लोगों को नौकरी के साथ ही मुंबई में सम्मानजनक आश्रय मिल जाता है। यह आश्रयदाता अब हमारे बीच नहीं रहे। उनका हृदयगति रुक जाने से निधन हो गया है। आर.एन सिंह वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के विधान परिषद सदस्य थे और उत्तर भारतीय संघ के अध्यक्ष थे।

निजी सुरक्षा को दिया नया आयाम
आर.एन सिंह ने 1976 में निजी सुरक्षा को अहम मानते हुए, उसे आधुनिक और शक्तिशाली रूप में सुविधा की तरह प्रदान करने के उद्देश्य से बीआईएस की स्थापना की थी। इसमें पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों से बेहतर तालमेल स्थापित करके कार्य करना उनकी प्राथमिकता रही। जिसकी परिणति रही कि बीआईएस निजी सुरक्षा में विश्वसनीय नाम के रूप में उभरी। वर्तमान समय में देश के 57 शहरों में लगभग 45 हजार मानव बल के साथ यह देश की अग्रणी सुरक्षा रक्षक प्रदाता कंपनी है। इसके लिए आर.एन सिंह को सेंट्रल एसोशिएशन ऑफ प्राइवेट सिक्योरिटी इडस्ट्री (कॉप्सी) द्वारा लाइफ टाइम अचीवमेन्ट अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।

ये भी पढ़ें – “बुल्ली बाई” ऐप का क्या है खालिस्तानी कनेक्शन? जानिए, इस खबर में

नौकरी और छत के प्रदाता
गांवों से मुंबई आनेवाले नौजवानों के लिए बीआईएस नौकरी का अवसर ही नहीं बल्कि, एक छत भी प्रदान कर देती थी। इसके साथ जुड़कर लोग मुंबई में कमाई के साथ ही अपने घर परिवार को एक सुंदर जीवनयापन का साधन देने में सफल हो जाते हैं। इसी कारण आर.एन सिंह ग्रामीण युवकों के लिए आश्रयदाता थे।

उत्तर भारतीय संघ के प्रमुख
आर.एन सिंह सात बार से उत्तर भारतीय संघ के अध्यक्ष रहे। उनकी अध्यक्षता में ही उत्तर भारतीय भवन का बांद्रा में निर्माण हुआ। उत्तर भारतीय संघ द्वारा मुंबई में रहनेवाले उत्तर भारतीयों को विवाह जैसे अवसरों पर कम कीमत में स्थान उपलब्ध कराना, इलाज के लिए आनेवालों को रहने का स्थान प्रदान करना समेत विभिन्न कार्य किये जाते हैं। इस कार्य में आर.एन सिंह अपना पूर्ण समय और धन भी उपलब्ध कराते थे।

समाज की श्रद्धांजलि
कुछ समय पहले ही आर.एन सिंह का मुंबई के अतिप्रतिष्ठित अस्पताल में हृदय का ऑपरेशन हुआ था। मुंबई में स्वास्थ्य लाभ करने के बाद वे गोरखपुर स्थित अपने पैतृक निवास में रह रहे थे। परंतु, वहां अचानक हृदयगति रुक जाने से रविवार को उनका निधन हो गया। उनके निधन पर समाज के सभी वर्ग से श्रद्धांजलि व्यक्त की गई।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने आर.एन सिंह के निधन पर श्रद्धांजलि व्यक्त की है।

राज्य की स्कूली शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड ने सिंह के निधन पर दुख व्यक्त किया है।

राज्य के पूर्व वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने भी आर.एन सिंह के निधन पर अपनी संवेदना व्यक्त की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here