PM Modi’s Russia Visit: आज से शुरू होगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दो दिवसीय रूस यात्रा, जाने क्या है एजेंडे?

क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने रूस के सरकारी टेलीविजन चैनल वीजीटीआरके को दिए साक्षात्कार में शनिवार को कहा कि मॉस्को में प्रधानमंत्री मोदी का कार्यक्रम व्यापक होगा और दोनों नेता अनौपचारिक बातचीत कर सकेंगे।

78

PM Modi’s Russia Visit: रूस (Russia) ने कहा कि उसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) की मास्को यात्रा (Moscow visit) की उम्मीद है जो रूस-भारत संबंधों के लिए महत्वपूर्ण है। प्रधानमंत्री मोदी 22वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन (22nd India-Russia Annual Summit) में भाग लेने के लिए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के निमंत्रण पर 8 से 9 जुलाई तक मास्को में रहेंगे। फरवरी 2022 में शुरू हुए रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली रूस यात्रा होगी।

क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने रूस के सरकारी टेलीविजन चैनल वीजीटीआरके को दिए साक्षात्कार में शनिवार को कहा कि मॉस्को में प्रधानमंत्री मोदी का कार्यक्रम व्यापक होगा और दोनों नेता अनौपचारिक बातचीत कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें- Anti-hindu Rahul Gandhi: नफरती कौन? हिंदू या राहुल गांधी?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रूस यात्रा: प्रमुख बातें

  • विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को नई दिल्ली में इस उच्चस्तरीय यात्रा की घोषणा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और व्लादिमीर पुतिन भारत और रूस के बीच बहुआयामी संबंधों की सम्पूर्ण समीक्षा करेंगे तथा आपसी हितों के समकालीन क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे।
  • दिमित्री पेस्कोव ने कहा, “जाहिर है, एजेंडा व्यापक होगा, अगर इसे अति व्यस्त न भी कहा जाए। यह एक आधिकारिक यात्रा होगी, और हमें उम्मीद है कि दोनों राष्ट्राध्यक्ष अनौपचारिक तरीके से भी बातचीत कर सकेंगे।”
  • पेस्कोव ने कहा कि रूसी-भारतीय संबंध रणनीतिक साझेदारी के स्तर पर हैं। उन्होंने कहा कि क्रेमलिन में आमने-सामने की बातचीत और प्रतिनिधिमंडलों की बातचीत दोनों ही होंगी।
  • आधिकारिक समाचार एजेंसी तास ने उनके हवाले से कहा, “हम एक बहुत ही महत्वपूर्ण और पूर्ण यात्रा की उम्मीद कर रहे हैं, जो रूसी-भारतीय संबंधों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।”
  • मोदी की रूस की आखिरी यात्रा 2019 में हुई थी जब उन्होंने सुदूर पूर्वी शहर व्लादिवोस्तोक में एक आर्थिक सम्मेलन में भाग लिया था।
  • भारत के प्रधानमंत्री और रूस के राष्ट्रपति के बीच वार्षिक शिखर सम्मेलन दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी में सर्वोच्च संस्थागत संवाद तंत्र है।

यह भी पढ़ें- Team India: BCCI सचिव जय शाह ने की भविष्यवाणी, कहा- रोहित शर्मा भारत को इन दोनों फॉर्मेट में जीत दिलाएंगे

प्रधानमंत्री मोदी की ऑस्ट्रिया यात्रा

  • मोदी 22वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन के लिए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के निमंत्रण पर 8 और 9 जुलाई को मास्को की यात्रा के बाद 9 और 10 जुलाई को अपनी पहली यात्रा पर ऑस्ट्रिया जाएंगे।
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ऑस्ट्रिया की अपनी यात्रा से पहले रविवार को कहा कि लोकतंत्र, स्वतंत्रता और कानून के शासन के साझा मूल्य वह आधार हैं जिन पर दोनों देश और अधिक घनिष्ठ साझेदारी का निर्माण करेंगे।
  • मोदी की यह टिप्पणी ऑस्ट्रियाई चांसलर कार्ल नेहमर द्वारा ‘एक्स’ पर पोस्ट किए गए उस पोस्ट के एक दिन बाद आई है, जिसमें उन्होंने लिखा था, “मैं अगले सप्ताह वियना में दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करने के लिए बहुत उत्सुक हूं।”
  • उन्होंने कहा, “यह यात्रा एक विशेष सम्मान है, क्योंकि यह 40 वर्षों में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा है तथा यह एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है, क्योंकि हम भारत के साथ राजनयिक संबंधों के 75 वर्ष पूरे होने का जश्न मना रहे हैं।”
  • नेहामर को जवाब देते हुए मोदी ने कहा, “धन्यवाद, चांसलर कार्ल नेहामर। इस ऐतिहासिक अवसर पर ऑस्ट्रिया आना वाकई सम्मान की बात है। मैं हमारे देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने और सहयोग के नए रास्ते तलाशने पर हमारी चर्चाओं का इंतजार कर रहा हूं।”
  • उन्होंने कहा, “लोकतंत्र, स्वतंत्रता और कानून के शासन के साझा मूल्य वह आधारशिला हैं, जिस पर हम और अधिक घनिष्ठ साझेदारी का निर्माण करेंगे।”

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.