18-44 आयु वर्ग के लोगों का इन राज्यों में 1 मई से टीकाकरण नहीं!

देश के अधिकांश राज्यों ने वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने का कारण बताते हुए 1 मई से चलाए जाने वाले टीकाकरण अभियान में शामिल होने से इनकार कर दिया है।

केंद्र सरकार द्वारा 1 मई से देश भर में 18-44 आयु वर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान चलाने की घोषणा की है, लेकिन देश के अधिकांश राज्यों ने वैक्सीन नहीं उपलब्ध होने का कारण बताते हुए इस अभियान में शामिल होने से इनकार कर दिया है।

इन राज्यों में टीकाकरण नहीं
1 मई से टीकाकरण करने में असमर्थता जताने वाले राज्यों में छत्तीसगढ़,बिहार,दिल्ली, झारखंड,राजस्थान,गुजरात,तमिलनाडु,पश्चिम बंगाल,गोवा,आंध्र प्रदेश, जम्मू- कश्मीर,कर्नाटक,ओडिशा, उत्तराखंड आदि शामिल हैं।

टीका लगवाने के लिए लोगो में उत्साह
बता दें कि 18-44 आयुवर्ग के लोगों में टीका लगवाने के लिए काफी उत्साह देखा जा रहा है। यही कारण है कि 30 अप्रैल की शाम तक देश में 2.50 करोड़ से ज्यादा लोगों ने टीके के लिए पंजीकरण कराया है। इनमें से 1.40 करोड़ से अधिक लाभार्थियों ने 28 अप्रैल को पंजीकरण कराया है, जबकि 29 अप्रैल को 1.10 करोड़ लोगों ने पंजीकरण कराया है।

ये भी पढ़ेंः अगर अमेरिका में वैक्सीन सस्ती उपलब्ध हो सकती है तो भारत में क्यों नहीं! सर्वोच्च सवाल

महाराष्ट्र में टीकाकरण सीमित टीकाकरण
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 1 मई से 18 से 44 साल की आयु वर्ग के नागरिकों के लिए टीकाकरण शुरू करने की घोषणा की है। लेकिन मुख्यमंत्री ने अपील की है कि इस आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण जैसे-जैसे टीका उपलब्ध होगा, वैसे-वैसे किया जाएगा। 1 मई को पहला टीका इस आयु वर्ग के लोगों को लगेगा लेकिन ये अंतिम टीका नहीं है। टीकाकरण केंद्रों पर लोग भीड़ न करें।

ये भी पढ़ेंः कोरोना से दादागिरी! पढ़ें महाराष्ट्र के 105 वर्षीय दादाजी ने कैसे जीती जिंदगी

दिल्ली ने भी हाथ खड़े किए
इससे पहले दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी 1 मई से टीकाकरण शुरू करने में असमर्थता जताई है। उन्होंने 29 अप्रैल को कहा कि राजधानी में कोरोना वैक्सीन की उपलब्धता की कमी है। हमें फिलहाल वैक्सीन कंपनियों द्वारा वैक्सीन सप्लाई किए जाने का इंतजार है। वैक्सीन मिलने के बाद लोगों को टीकाकरण के बारे में सूचित किया जाएगा। जैन ने कहा कि अभी तक तो कंपनियों ने वैक्सीन सप्लाई का शिड्यूल भी नहीं बताया है।

राजस्थान
राजस्थान के स्वास्थ मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि हमें सीरम इंस्टीट्यूट से बात करने को कहा गया था, लेकिन वहां से बताया गया कि उन्हें जो ऑर्डर केंद्र सरकार द्वारा दिए गए हैं, उन्हें पूरा करने के लिए 15 मई तक समय चाहिए। इसलिए वे फिलहाल हमें टीका देने की स्थिति में नहीं हैं।

ये भी पढ़ेंः महाराष्ट्रः जुलाई-अगस्त में कोरोना की तीसरी लहर!

पंजाब
पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा कि वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने पर टीकाकरण का कोई रास्ता नहीं है। केंद्र सरकार ने कहा है कि टीकाकरण सभी के लिए ओपन कर दिया गया है, लेकिन टीका उपलब्ध नहीं है। फिर पूरे देश को गुमराह किया जा रहा है। एक तरह से राज्यों पर बोझ डालने और उन्हें बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

छत्तीसगढ़
छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा कि उन्होंने सुना है कि असम ने टीकों के लिए ऑर्डर देने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें बताया गया कि कि टीका एक महीने के बाद मिलेंगे। हमें भी टीके नहीं दिए जा रहे हैं, इस स्थिति में हम 1 मई से टीकाकरण कैसे कर सकते हैं?

झारखंड
झारखंड के स्वास्थ मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा है कि हम टीकाकरण करने के लिए तैयार हैं, लेकिन क्या हम अपने घरों में टीके बनाएंगे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here