Mumbai: टाइगर राजा सिंह के रैली पर मुंबई उच्च न्यायालय ने दिया यह आदेश

इस मामले में तजा अपडेट यह है की मुंबई उच्च न्यायालय ने याचिका स्वीकार कर ली है। सकल हिन्दू समाज से जुड़े और कार्यक्रम के आयोजक नरेश नीले की तरफ से अदालत में अधिवक्ता खुश खंडेलवाल पेश हुए मुंबई उच्च न्यायालय ने याचिका स्वीकार कर लिया साथ ही रैली व सभा की परमिशन दी।

292

Mumbai: मुंबई (Mumbai) के उपनगर मीरा भायंदर (Mira Bhayandar) में 25 फरवरी 2024 को सकल हिन्दू समाज द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) के जयंती के उपलक्ष्य में रैली व सभा आयोजित होना है। यह कार्यक्रम सकल हिन्दू समाज के बैनर तले नरेश नीले (Naresh Neele) आयोजित करंगे। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि टाइगर राजा सिंह (Tiger Raja Singh) हैं, जो की हैदराबाद में गोशमहल विधानसभा से भाजपा विधायक हैं।

20 फरवरी को जब आयोजक कार्यक्रम के अनुमति के लिए पुलिस के पास गए। मीरा रोड पुलिस व काशिमिरा पुलिस ने इस कार्यक्रम के लिए आदेश पारित कर अनुमति देने से मना कर दिया। इस आदेश के खिलाफ आयोजकों ने मुंबई उच्च न्यायालय का रुख किया था। पुलिस आदेश के खिलाफ मुंबई उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर चुनौती दी थी।

 

यह भी पढ़ें – ED Raid: सपा नेता विनय शंकर तिवारी के ठिकानों पर ईडी की कार्यवाई, जानें क्या है प्रकरण

रैली व सभा की मिली परमिशन
इस मामले में तजा अपडेट यह है की मुंबई उच्च न्यायालय ने याचिका स्वीकार कर ली है। सकल हिन्दू समाज से जुड़े और कार्यक्रम के आयोजक नरेश नीले की तरफ से अदालत में अधिवक्ता खुश खंडेलवाल पेश हुए मुंबई उच्च न्यायालय ने याचिका स्वीकार कर लिया साथ ही रैली व सभा की परमिशन दी। हिन्दू टास्क फोर्स के संस्थापक और इस मामले के अधिवक्ता खुश खंडेलवाल ने कहा,”मुंबई उच्च न्यायालय ने हमारी याचिका स्वीकार करते हुए शर्तों के साथ रैली व सभा की परमिशन देने का आदेश दिया।”

यह भी पढ़ें- Liquor Scam: दिल्ली सरकार के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने किया दावा, सीएम अरविंद केजरीवाल जाएंगे जेल! जानें क्या है प्रकरण

रैली की अनुमति देने से पुलिस ने किया था इनकार
आयोजकों का कहना था की यह कार्यक्रम सिर्फ छत्रपति शिवाजी महाराज के जयंती से सम्बंधित है। छत्रपति शिवाजी महाराज को श्रद्धांजलि देना उनका अधिकार है। वहीं पुलिस का मानन था की तेलंगाना भाजपा विधायक टी राजा सिंह वक्ताओं में से एक हैं। जो की पहले भी नफरत भरे भाषणों के उदाहरणों और शहर में कानून-व्यवस्था की स्थिति की संभावना का हवाला दिया, जिससे दो समुदायों के बीच तनाव बढ़ सकता है, पुलिस ने रैली की अनुमति देने से इनकार कर दिया था।

देखें यह वीडियो-  

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.