Manipur HC: मैतेई को एसटी का दर्जा देने पर मणिपुर उच्च न्यायालय ने लिया यह निर्णय

उच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र सरकार बनाम मिलिंद तथा अन्य मामले संबंधी एक फैसला का हवाला देते हुए कहा कि संविधान के अनुच्छेद 341 तथा 342 में राष्ट्रपति को यह अधिकार दिया गया है कि किस जाति या जनजाति को किस श्रेणी में रखें।

178

Manipur HC: मणिपुर उच्च न्यायालय (Manipur High Court) ने मैतेई (Meitei) को एसटी (ST) का दर्जा देने संबंधी अपने फैसले में दिये गये सुझाव को वापस ले लिया है। उल्लेखनीय है कि मणिपुर उच्च न्यायालय द्वारा बीते वर्ष मार्च में दिए गए इस फैसले के बाद से राज्य के कुकी-जो समुदाय के लोगों ने हिंसक आंदोलन शुरू कर दिया था। मणिपुर में हिंसा आज भी जारी है।

उच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) बनाम मिलिंद तथा अन्य मामले संबंधी एक फैसला का हवाला देते हुए कहा कि संविधान के अनुच्छेद 341 तथा 342 में राष्ट्रपति को यह अधिकार दिया गया है कि किस जाति या जनजाति को किस श्रेणी में रखें। उच्च न्यायालय ने माना कि यह निर्णय संसद द्वारा कानून के संशोधन के जरिए ही लिया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2024: दिग्विजय सिंह और उदित राज को दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार, जानें क्या है प्रकरण

मैतेई समुदाय को अनुसूचित जनजाति सूची में जोड़ने पर विचार
उल्लेखनीय है कि मार्च 2023 के फैसले के खिलाफ एक समीक्षा याचिका के बाद, उच्च न्यायालय ने अनुच्छेद 17(iii) को हटाने का आदेश दिया। इस अनुच्छेद के जरिए मणिपुर सरकार को मैतेई को अनुसूचित जनजाति सूची में जोड़ने पर विचार करने का निर्देश दिया गया था। हटाए गए पैराग्राफ में कहा गया है कि राज्य सरकार मीतेई/मैतेई समुदाय को अनुसूचित जनजाति सूची में शामिल करने पर तेजी से विचार करेगी। उच्च न्यायालय के आदेश में लिखा गया है कि मैं संतुष्ट हूं और इस विचार से कि एकल न्यायाधीश के दिनांक 27.03.2023 के अनुच्छेद संख्या 17 (iii) में दिए गए निर्देश 2023 के डब्ल्यूपी (सी) संख्या 229 में पारित किए गए हैं, जिसे यहां लागू करने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें- BRAHMOS Supersonic Missile: सीसीएस की मंजूरी के बाद 200 ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल खरीदेगी नौसेना

जारी हिंसा पर होगा इसका असर
समीक्षा की गई क्योंकि एकल न्यायाधीश के अनुच्छेद संख्या 17(iii) में दिया गया निर्देश सर्वोच्च न्यायालय की संविधान पीठ में की गई टिप्पणी के खिलाफ है। तदनुसार, पैरा संख्या 17(iii) में दिये गये निर्देश को हटाने की आवश्यकता है और डब्ल्यूपी (सी) संख्या 229/2023 में पारित निर्णय और आदेश दिनांक 27.03.2023 के पैरा संख्या 17(iii) को हटाने के लिए तदनुसार आदेश दिया जाता है।” देखना यह है कि मणिपुर उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए इस फैसले को मैतेई समुदाय के लोग किस प्रकार लेते हैं और राज्य में जारी हिंसा पर इसका क्या असर पड़ता है।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.