Bihar: वाम दलों के इस दावे से बढ़ी राजद-जदयू की परेशानी, लोकसभा चुनाव की राह में रोड़ा

सीपीआई (एमएल) ने आरा और सिवान लोकसभा क्षेत्रों में तैयारी कर रही है। आरा में 1989 में उसकी जीत हुई थी। उस समय इंडियन पीपुल्स फ्रंट के नाम से भाकपा माले चुनाव लड़ती थी।

1620

Bihar: वर्ष 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) को लेकर बिहार की सियासत में गर्मी बढ़ने लगी है। सीटों के बंटवारे के बिना ही वाम दलों(left parties) ने अपनी तैयारी तेज करते हुए दावा जताना शुरू कर दिया है। सबसे बड़ी बात यह भी है कि विपक्षी महागठबंधन इंडी(opposition grand alliance indi) में शामिल इन क्षेत्रीय पार्टियों का दबदबा(dominance of regional parties) बिहार के तीन से चार लोकसभा सीटों(Lok sabha seat) पर ज्यादा है।

विपक्षी गठबंधन में शामिल बिहार की क्षेत्रीय पार्टी सीपीआई (माले) ने भी लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जताकर महागठबंधन दल में हड़कंप मचा दी है। सीपीआई (एमएल) ने दो सीटों पर सघन तैयारी शुरू भी कर दी है। ये सीट आरा और सिवान की है जबकि सीपीआई बेगूसराय, बांका और मधुबनी में अपने पुराने और जिताऊ जनाधार की खोज में जुट गई है।

सीपीआई का दावा
सीपीआई के राज्य सचिव रामनरेश पांडेय ने बातचीत में कहा कि मधुबनी में छह और बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र में दो बार हमारे पार्टी के उम्मीदवारों की जीत हो चुकी है। इन सीटों पर कई बार हमारे उम्मीदवार दूसरे नंबर पर रहे हैं। बांका के दो चुनावों में भाकपा को सम्मानजनक मत प्राप्त हुआ है। इसलिए इन सीटों पर हमारे दावे का तार्किक आधार है।

Madhya Pradesh: पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने एक्स पर बदला अपना बायो! जानिये, क्या लिखा

इन सीटों पर ने ठोका दावा
सीपीआई (एमएल) ने आरा और सिवान लोकसभा क्षेत्रों में तैयारी कर रही है। आरा में 1989 में उसकी जीत हुई थी। उस समय इंडियन पीपुल्स फ्रंट के नाम से भाकपा माले चुनाव लड़ती थी। वर्ष 2019 में आरा में माले उम्मीदवार राजू यादव को चार लाख 19 हजार वोट मिला था। इसी तरह सिवान भी उसका आधार क्षेत्र रहा है। सिवान में माले की कभी जीत नहीं हुई लेकिन तीन चुनावों में उसके उम्मीदवार तीसरे नंबर पर रहे हैं।

भाकपा माले और राजद के बीच 2019 के लोकसभा चुनाव में भी समझौता हुआ था। भाकपा स्वतंत्र लड़ी थी। भाकपा का जदयू के साथ 2014 में चुनावी समझौता हुआ था। जदयू ने उसके लिए बेगूसराय और बांका की सीट छोड़ दी थी।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.