‘तो रद्द कर देंगे सभी पक्षपातपूर्ण निर्णय’ व्यापारियों के बंद को इक्कजुट्ट जम्मू का समर्थन

इक्कजुट्ट जम्मू स्थानीय लोगों के हितों को लेकर गंभीर रही है। कोरोना के कारण मंदी की मार झेल रहे व्यापारियों को अब उद्योगपतियों के कारण चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

जम्मू में रिलायंस स्टोर की श्रृंखला शुरू करने के विरोध में स्थानीय व्यापारियों ने बंद की घोषणा की है। केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन द्वारा दी गई इस अनुमति का स्थानीय थोक और खुदरा व्यापारियों के उद्योग पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। इसे स्थानीय व्यापारियों के विरोध में क्रूर नीति बताते हुए इकजुट्ट जम्मू के अध्यक्ष अंकुर शर्मा ने बंद का समर्थन किया है। यह बंद 22 सितंबर को है।

जम्मू में रिलायंस रिटेल स्टोर खोलने की अनुमति के विरोध में उतरे इकजुट्ट जम्मू के अंकुर शर्मा ने कहा है कि बाजार में विभिन्न व्यापारिक समूहों के बीच न्यायसंगत संतुलन बनाने के बजाय, सरकार विशिष्ट उद्योग समूह की ओर केंद्रित दृष्टिकोण से पक्षपातपूर्ण कार्य कर रही है। इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत की उद्यमशीलता को समाप्त करने का षड्यंत्र उन्हीं के राज्यपाल शासन में हो रहा है।

ये भी पढ़ें – पश्चिम बंगाल में भाजपा को टीएमसी ने दिया बड़ा झटका

बड़े व्यवसाइयों के हाथ में सरकार
सरकार छोटे व मझले व्यापारियों के हितों की अनदेखी करके जम्मू के व्यापार को अपने नियंत्रण में करना चाहती है। यह सरकार बड़े व्यवसाइयों और अन्य आर्थिक रूप से सशक्त उद्योगपतियों के आदेश को स्वीकार करने के लिए तैयार है, जो लंबे समय से नौकरशाह और माफिया राजनेताओं की मिलीभगत से अधिकार जमाए बैठे हैं। इनके निशाने पर शराब और खनन के बाद, अब अगला लक्ष्य वितरण सहित खुदरा और थोक व्यापार है।

सत्ता में आए तो पक्षपातपूर्ण नीतियां समाप्त
अंकुर शर्मा ने व्यापारियों को आश्वस्त किया कि, यदि जम्मू प्रांत में इकजुट्ट जम्मू की सत्ता में आती है तो पार्टी वर्तमान सरकार द्वारा किए गए सभी आर्थिक और राजनीतिक गलतियों को तत्काल प्रभाव से रद्द करेगी।

22 सितंबर 2021 को होनेलाले बंद में चेंबर ऑफ कॉमर्स, जम्मू, चेंबर ऑफ ट्रेडर्स फेडेरेशन, रिटेलर्स फेडेरेशन-जम्मू, रघुनाथ बाजार बिजनेसमैन एसोशिएशन, कनक मंडी ट्रेडर्स एसोशिएशन और अप्सरा रोड ट्रेडर्स एसोशिएशन आदि शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here