Gaza: इजरायली हवाई हमले हुए तेज, दोनों देशों में मरने वालों की संख्या बढ़ी

इजरायली हवाई हमलों (air strikes) ने गाजा में आवास ब्लॉकों, सुरंगों, एक मस्जिद और हमास के अधिकारियों के घरों को निशाना बनाया है, जिसमें 20 बच्चों सहित 370 से अधिक लोग मारे गए। हमास के इजरायल हमले के बाद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) ने इस काले दिन का बदला लेने की कसम खाई है। 

73

इजरायल (Israel) पर हमास के भीषण हमले के बाद इजरायल ने भी 08अक्टूबर को गाजा (Gaza) पर हमला किया। हमले में दोनों पक्षों से 600 से अधिक लोगों की मौत हो गई और 12 से अधिक लोगों का अपहरण भी हुआ है। हमास (Hamas) और इजरायल के बीच बढ़ती हिंसा से मध्य पूर्व में युद्ध का खतरा पैदा हो गया है।

काले दिन का बदला
इजरायली हवाई हमलों (air strikes) ने गाजा में आवास ब्लॉकों, सुरंगों, एक मस्जिद और हमास के अधिकारियों के घरों को निशाना बनाया है, जिसमें 20 बच्चों सहित 370 से अधिक लोग मारे गए। हमास के इजरायल हमले के बाद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) ने इस काले दिन का बदला लेने की कसम खाई है।  यह संघर्ष गाजा के अलावा दूसरे क्षेत्र में भी फैल सकता है। लेबनान के ईरान समर्थित हिजबुल्लाह मिलिशिया ने तोपखाने और रॉकेट से इजरायल पर हमला किया है जबकि अलेक्जेंड्रिया में, दो इजरायली पर्यटकों को उनके मिस्र गाइड के साथ गोली मार दी गई।

यह एक लंबी लड़ाई है
दक्षिणी इज़रायल में, हमास बहुस्तरीय हमले के 24 घंटे बाद भी इजरायली सुरक्षा बलों से लड़ रहा है। हमास ने इजरायल के सैन्य ठिकानों पर कब्जा करने के लिए और सीमावर्ती कस्बों पर हमला कर दिया था। हमास के अचानक हमले को रोकने में अपनी विफलता पर इज़रायली सेना ने कहा कि उसने सुरक्षा बाधाओं के साथ अधिकांश घुसपैठ बिंदुओं पर नियंत्रण हासिल कर लिया है, सैकड़ों हमलावरों को मार गिराया है और दर्जनों को बंदी बना लिया है। एक इजरायली सैन्य प्रवक्ता ने कहा कि हम हमास पर गंभीर हमला करने जा रहे हैं और यह एक लंबी लड़ाई है। सेना ने कहा कि उसने गाजा के चारों ओर हजारों सैनिकों को तैनात किया है। एक संकरी पट्टी जो 23 लाख फिलिस्तीनियों का घर है, और क्षेत्र की सीमा के आसपास रहने वाले सभी इजरायलियों को निकालना शुरू कर रही है।

गाजा के कसाब अल-अत्तार ने कहा, “यह मेरा पांचवां युद्ध है। युद्ध बंद होना चाहिए। मैं इसे महसूस नहीं करना चाहता।”
हमास का हमला 50 साल पहले योम किप्पुर युद्ध में खोए हुए क्षेत्र को पुनः प्राप्त करने के प्रयास में किया गया है जो मिस्र और सीरिया के अचानक हमले के बाद से इज़राइल में हमास की सबसे बड़ी और घातक घुसपैठ का प्रतिनिधित्व करता है। इज़रायली टीवी स्टेशनों की रिपोर्ट के अनुसार, कम से कम 600 लोग मारे गए। हालांकि इज़रायल ने आधिकारिक संख्या जारी नहीं की है।

हिजबुल्लाह ने कहा, उसकी बंदूकें और रॉकेट हमास के साथ
तेहरान के अन्य मुख्य क्षेत्रीय सहयोगी, लेबनान के हिजबुल्लाह ने 2006 में इज़राइल के साथ युद्ध लड़ा और कहा कि उसकी “बंदूकें और रॉकेट” हमास के साथ खड़े हैं।  इजरायली सेना के प्रवक्ता ने कहा, “हम हिजबुल्लाह को इसमें शामिल नहीं होने की सलाह देते हैं और मुझे नहीं लगता कि वे ऐसा करेंगे।” दक्षिणी इज़रायली कस्बों और सीमावर्ती समुदायों के आसपास हमले का मलबा 08अक्टूबर की सुबह भी पड़ा हुआ था और इज़रायली उपनगरीय सड़कों, कारों और अपने घरों में खून से लथपथ शवों को देखकर घबरा रहे थे।

370 की मौत, 2,200 हुए घायल 
गाजा पर इजरायली हवाई हमले हमास के हमले के तुरंत बाद शुरू हुए और रात भर और अगले दिन तक जारी रहे, जिसमें समूह के कार्यालयों और प्रशिक्षण शिविरों को नष्ट कर दिया गया, बल्कि घर और अन्य इमारतें भी नष्ट हो गईं। गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि जवाबी हमलों में 370 लोग मारे गए और 2,200 घायल हुए।

20,000 से अधिक फिलिस्तीनियों ने मांगी शरण
संयुक्त राष्ट्र की फिलिस्तीनी शरणार्थी एजेंसी ने कहा कि गाजा में 20,000 से अधिक फिलिस्तीनियों ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा संचालित स्कूलों में शरण मांगी है। दक्षिणी गाजा में खान यूनिस में, लोगों ने रविवार तड़के एक मस्जिद के अवशेष मिले। स्थानीय निवासी रमेज़ हनीडेक ने कहा, हमने रात की नमाज़ ख़त्म की और अचानक मस्जिद पर बमबारी हुई। इस हमले से बच्चे, बुजुर्ग और महिलाएं आतंकित हैं। हमास नेता इस्माइल हानियेह ने कहा कि गाजा में शुरू हुआ हमला वेस्ट बैंक और येरुशलम तक फैल जाएगा। 2007 में हमास द्वारा इस क्षेत्र पर कब्ज़ा करने के बाद से गाजावासी 16 वर्षों से इजरायल के नेतृत्व वाली नाकाबंदी के तहत रह रहे हैं।

अमेरिका ने हमले की निंदा की
संयुक्त राज्य अमेरिका के नेतृत्व में पश्चिमी देशों ने हमले की निंदा की। राष्ट्रपति जो बाइडन ने ईरान और अन्य देशों को स्पष्ट चेतावनी जारी करते हुए कहा कि यह इज़राइल के प्रति शत्रुता के भावना से इन हमलों का फायदा किसी भी तरह से उठाने का समय नहीं है। ईरान और हिजबुल्लाह ने हमले की सराहना की।

इजराइल के पूरी तरह से सतर्क हो जाने पर उसके इतिहास की सबसे खराब खुफिया विफलताओं में से एक के रूप में अफसोस जताया गया, यह उस देश के लिए एक झटका था जो गहन घुसपैठ और आतंकवादियों की निगरानी का दावा करता है।

यह भी पढ़ें – Afghanistan earthquake: मलबों कें नीचे सिसक रही जिंदगी, चारों तरफ चीख-पुकार और मदद की गुहार

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.