भारत की अध्यक्षता में जी-20 जेएफएचटीएफ बैठक, इस मुद्दे पर हुई चर्चा

जी-20 जेएफएचटीएफ सदस्यों ने वर्ष 2023 के लिए डिलिवरेबल्स हासिल करने के लिए महामारी की रोकथाम के लिए वैश्विक स्वास्थ्य संरचना को मजबूत करने में योगदान देने के प्रति प्रतिबद्धता व्यक्त की।

भारत की अध्यक्षता में जी-20 की पहली संयुक्त वित्त और स्वास्थ्य कार्य बल (जेएफएचटीएफ) की बैठक ऑनलाइन आयोजित की गई। इस बैठक में बाली जी-20 बैठक के घोषणापत्र पर चर्चा की गई। बैठक में जी-20 और आमंत्रित देशों के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय संगठनों के वित्त और स्वास्थ्य प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस बैठक की सह अध्यक्षता इटली और इंडोनेशिया ने की।

मसौदे पर भारत के साथ सह अध्यक्ष देशों ने किया काम
वित्त मंत्रालय ने 20 दिसंबर को जारी बयान में बताया कि टास्क फोर्स सचिवालय ने 2023 और उसके बाद की कार्य योजना का मसौदा तैयार करने के लिए भारत की अध्यक्षता एवं सह अध्यक्षों इटली और इंडोनेशिया के साथ काम किया। मसौदे को 2023 के लिए वैश्विक स्वास्थ्य प्राथमिकताओं को ध्यान में रख कर तैयार किया गया है। जी-20 जेएफएचटीएफ सदस्यों ने वर्ष 2023 के लिए डिलिवरेबल्स हासिल करने के लिए महामारी की रोकथाम, तैयारी और प्रतिक्रिया (पीपीआर) के लिए वैश्विक स्वास्थ्य संरचना को मजबूत करने में योगदान देने के प्रति प्रतिबद्धता व्यक्त की। वहीं, नीदरलैंड के विदेश मंत्रालय के महासचिव पॉल ह्यूजट्स ने भारत की जी-20 अध्यक्षता में विश्वास जताते हुए कहा कि भारत की अध्यक्षता महान होगी।

वैश्विक सहयोग को बढ़ाना देना उद्देश्य
उल्लेखनीय है कि संयुक्त वित्त और स्वास्थ्य कार्य बल का गठन पिछले साल रोम में जी-20 शिखर बैठक के दौरान किया गया था। इस कार्य बल के गठन का उद्देश्य महामारी की रोकथाम, तैयारी और प्रतिक्रिया से संबंधित मुद्दों पर संवाद और वैश्विक सहयोग को बढ़ाना है। इससे पहले पिछले हफ्ते बेंगलुरु में वित्त और केंद्रीय बैंकों के उप प्रमुख प्रतिनिधियों तथा रूपरेखा समूह की बैठक के बाद भारत की जी-20 की अध्यक्षता में वित्तीय ट्रैक की यह तीसरी बैठक थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here