पीएम मोदी पर ‘उस’ ट्वीट से कांग्रेस में हड़कंप! अब प्रदेश अध्यक्ष ने दिया ऐसा आदेश

कर्नाटक में 30 अक्टूबर को दो जगहों पर उपचुनाव होने हैं। जनता दल सेक्युलर और भाजपा विधायक के निधन के बाद खाली हुई इन सीटों पर चुनाव हो रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर एक ट्वीट से कर्नाटक कांग्रेस में हड़कंप मच गया है। कांग्रेस के इस ट्वीट को राजनीतिक हलकों में आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच, कांग्रेस ने ट्वीट को हटा दिया है और इसे ट्वीट तथा शेयर करने वाले नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है। कर्नाटक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डी शिवकुमार ने ट्वीट कर इसे सोशल मीडिया टीम से डिलीट करने को कहा है।

डी शिवकुमार ने ट्विटर के जरिए इस मामले पर खेद जताया है। कांग्रेस के उस ट्वीट में पीएम मोदी को अनपढ़ और अंगूठा छाप बताया गया था।

डी शिवकुमार ने जताया खेद
डी शिवकुमार ने एक ट्वीट में कहा, “मेरा मानना ​​है कि राजनीतिक चर्चा में हमेशा सभ्य और संसदीय भाषा का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।” उन्होंने यह भी कहा कि कर्नाटक कांग्रेस के ट्विटर अकाउंट से सोशल मीडिया मैनेजर द्वारा किया गया यहअसंसदीय ट्वीट खेदजनक है और इसे हटाया जा रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने भी बताया दुर्भाग्यपूर्ण
कांग्रेस प्रवक्ता लावण्या बल्लाल ने कहा कि ट्वीट दुर्भाग्यपूर्ण है और इसकी जांच की जाएगी। हालांकि, उन्होंने कहा कि ट्वीट को वापस लेने या माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता।

भाजपा ने की आलोचना
कई लोगों ने कहा कि कांग्रेस की यह मोदी की व्यक्तिगत आलोचना है। कर्नाटक में भाजपा प्रवक्ता मालविका अविनाश ने भी इस ट्वीट आलोचना की है। उन्होंने कहा है कि इतने निचले स्तर पर सिर्फ कांग्रेस ही जा सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि यह प्रतिक्रिया देने के लायक नहीं है।

आखिर क्या था उस ट्वीट में-
कर्नाटक में दो उपचुनावों के लिए प्रचार जारी है और कांग्रेस द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना ने विवाद खड़ा कर दिया है। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए उन्हें अनपढ़ बताया था। ट्वीट में यह था, “कांग्रेस ने स्कूल बनाए लेकिन मोदी कभी पढ़ने नहीं गए। कांग्रेस ने वयस्कों के लिए भी योजना बनाई, मोदी ने वहां भी नहीं सीखा। भीख मांगने पर प्रतिबंध के बावजूद, जो लोग भीख मांगना पसंद करते हैं, वे आज नागरिकों को भिखारी बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। देश आज मोदी के कारण पीड़ित है।”

कश्मीर में होगा आतंक का अंत? एक्शन में शाह, शीर्ष अधिकारियों के साथ की बैठक

दो सीटों पर उपचुनाव
कर्नाटक में 30 अक्टूबर को दो जगहों पर उपचुनाव होने हैं। जनता दल सेक्युलर और भाजपा विधायक के निधन के बाद खाली हुई इन सीटों पर चुनाव हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here