ये अदानी को बिजली नियामक आयोग का झटका है – राजेश शर्मा

बिजली नियामक आयोग के निर्देशों के अनुसार अदानी की बिजली के बढ़े दर की मार महावितरण के ग्राहकों पर नहीं पड़ेगा। इसके पहले कोयले की खरीद का अतिरिक्त बोझ बिजली उपभोक्ताओं पर पड़ रहा था। महावितरण द्वारा अदानी के मनमाने कारभार के खिलाफ शिकायत की गई थी, जिस पर बिजली नियामक आयोग ने अदानी के विरोध में निर्णय किया है।

इस संबंध में महाराष्ट्र कांग्रेस के महासचिव राजेश शर्मा ने कहा कि एसएसईडीसीएल ने अदानी पावर कंपनी के खिलाफ यह लड़ाई जीती है और राज्य में बिजली उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा के लिए काम किया है। तिरोदा में थर्मल पावर प्रोजेक्ट के लिए, अदानी ने पास के विशाखापत्तनम से कोयला खरीदने के बजाय दाहेज बंदरगाह से कोयला खरीदा।

ये भी पढ़ें – कोरोना से डॉक्टर लगाएंगे बेड़ा पार… उत्तर प्रदेश में भाजपा का बड़ा उपहार

दाहेज से कोयला खरीदने से दाहेज से तिरोदा तक परिवहन की लागत 500 रुपये प्रति मेट्रिक टन बढ़ जाती है। एमएसईडीसीएल ने इसका विरोध किया था। अदानी का दावा है कि दाहेज बंदरगाह तिरोदा के पास था, जिसे बिजली नियामक आयोग ने खारिज कर दिया। इसका राजेश शर्मा ने स्वागत किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here