शिवसेना नेता की फिसली जुबान! ‘इस बात’ के लिए दिया हेमा मालिनी के गाल का उदाहरण

अभिनेत्री हेमा मालिनी के गालों को लेकर कई राजनीतिज्ञों ने बयान दिए हैं। उसे लेकर बाद में काफी विवाद भी हुए हैं। अब उसी तरह का एक और विवाद महाराष्ट्र में देखने को मिल रहा है।

महाराष्ट्र में नगर पंचायत चुनाव की तैयारियां जोरों पर हैं। इसके लिए सभी पार्टियां अपनी पूरी ताकत झोंक रही हैं। नगर पंचायत चुनाव प्रचार के अंतिम चरण में शिवसेना नेता और जलगांव के पालक मंत्री गुलाबराव पाटील ने बैठक में भाग लिया। इस बैठक में पाटील कहा कि उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में हेमा मालिनी के गाल की तरह सड़कें बना दी हैं।

उन्होंने कहा, “मेरी चुनौती उन विधायक को है, जो 30 साल से यहां की राजनीति कर रहे हैं। वे मेरे क्षेत्र में आएं और यहां की सड़कों को देखें। सभी सड़कें अभिनेत्री हेमा मालिनी के गालों की तरह हैं। अगर सड़कें ऐसी नहीं दिखीं तो मैं इस्तीफा दे दूंगा।”

सभी विधायक को मिला जल संसाधन विभाग
पाटील ने बैठक में कहा कि यह संयोग ही है कि यहां से जो भी विधायक बना, जल संसाधन खाता ही मिला। एकनाथ खड़से, गिरीश महाजन और अब गुलाबराव पाटील, सभी जल संसाधन मंत्री रहे हैं। बैठक में बोलते हुए पाटील ने एकनाथ खडसे पर व्यंग्य करते हुए कहा कि दूसरों को ज्ञान सिखाने से पहले खुद को उस ज्ञान पर अमल करना चाहिए।

 नितेश राणे को दी सलाह
भाजपा विधायक नितेश राणे ने कहा था कि उद्धव ठाकरे ने शिवसेना पार्टी का इस्तेमाल अपने हितों के लिए किया। इसका जवाब गुलाबराव पाटील ने देते हुए कहा, “नितेश राणे उद्धव ठाकरे के बारे में बात करने के योग्य नहीं हैं। उद्धव ठाकरे के पिता ने नितेश राणे के पिता को राजनीति में लाया, इसलिए उन्हें उद्धव के बारे में बयानबाजी नहीं करनी चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here