स्वतंत्रता के इतिहास को जीवित रखना आवश्यक: उध्दव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि देश की आजादी के इतिहास का जतन करना तथा उसे जीवित रखना आवश्यक है। स्वतंत्रता की लड़ाई में कई ज्ञात तथा अज्ञात क्रांतिकारियों ने अपने प्राण न्यौछावर किए हैं।

मुख्यमंत्री ठाकरे यहां राजभवन में मंगलवार को क्रांति गाथा गैलरी तथा जलभूषण भवन का उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस क्रांति गाथा गैलरी तथा जलभूषण भवन का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उद्घाटन किया। इस मौके पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, लोक निर्माण मंत्री अशोक चव्हाण, विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस आदि उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें – संत तुकाराम के अभंग से पूर्ण हुआ वीर सावरकर रचित ‘हिंदुत्व’

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि जब हम अपनी स्वतंत्रता के अमृत उत्सव का जश्न मना रहे हैं, क्रांतिगाथा का उद्घाटन किया जा रहा है। यह एक बड़ा संयोग है, यह कहीं ज्यादा बेहतर क्षण है। हम जिस आज़ादी का आनंद ले रहे हैं, उसे पाने के लिए कितने लोगों ने अपने प्राणों का न्योछावर किया, कितनों ने घरों को राख में बदल डाला। इसके लिए कितनों ने कुर्बानी दी है। कितनों को मौत की हद तक भुगतना पड़ा है। आजादी के परवाने अगर ऐसा नहीं करते तो हम आज यहां नहीं आ सकते थे। उन्होंने कहा कि आज हम जिस आजादी का आनंद ले रहे हैं, इसके लिए बड़ी लड़ाई लडऩी पड़ी है। इसलिए हमें आजादी के इतिहास को जीवित रखना हमारा काम है।

ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र दिवस पर हमने प्राथमिक रूप में एक किताब तैयार की है लेकिन यह अभी पूरी नहीं हुई है। हमने एक ऐसी पुस्तक का संकल्पना की है, जिसमें देश के लिए बलिदान देने वाले ज्ञात और अज्ञात क्रांतिकारियों का संकलन हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here