CA: इन देशों के सीए को भारत में प्रैक्टिस करने की दी जा सकती है अनुमति, शर्तें लागू

2047 तक विकसित अर्थव्यवस्था बनने के लिए कर-जीडीपी अनुपात में सुधार होना चाहिए। इसके लिए कुछ देश के सीएम को भारत में प्रैक्टिस करने की अनुमति दी जा सकती है।

104

CA: ब्रिटेन और कनाडा(Britain and Canada) के चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) को पारस्परिक आधार पर भारत में प्रैक्टिस करने की अनुमति(Permission to practice in India on reciprocal basis) दी जा सकती है। आईसीएआई ने केंद्र सरकार को यह प्रस्ताव दिया(ICAI gave this proposal to the Central Government) है। द् इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) सरकार को सकल घरेलू उत्पाद (GDP) अनुपात में कर बढ़ाने के साथ-साथ हरित वित्त पर भी सुझाव देगी।

देश में चार्टर्ड अकाउंटेंट की शीर्ष निकाय आईसीएआई के नवनिर्वाचित अध्यक्ष सीए रंजीत कुमार अग्रवाल ने 21 फरवरी को यहां आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में यह बात कही। उन्होंने कहा कि देश को 2047 तक विकसित अर्थव्यवस्था बनने के लिए कर-जीडीपी अनुपात में सुधार होना चाहिए। उन्होंने कहा कि ब्रिटेन और कनाडा के चार्टर्ड अकाउंटेंट को पारस्परिक आधार पर भारत में प्रैक्टिस करने की अनुमति दी जा सकती है।

पहली बार होगा ऐसा
द् इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया के नवनिर्वाचित अध्यक्ष रंजीत कुमार अग्रवाल ने कहा कि यह पहली बार होगा ,जब किसी देश के चार्टर्ड अकाउंटेंट को भारत में प्रैक्टिस करने की अनुमति दी जाएगी। दरअसल यह प्रस्ताव ब्रिटेन और कनाडा के साथ भारत की मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) के लिए जारी बातचीत का हिस्सा है।

खास बातेंः
-नवनिर्वाचित अध्यक्ष ने अपने संबोधन में दृष्टि (DRISHTI) का अर्थ समझाते हुए कहा कि ‘दृष्टिकोण’ जो संस्थान को डिजिटलीकरण (डी), अनुसंधान (आर), अखंडता (आई), कौशल (एस), हैंडहोल्डिंग (एच), पारदर्शिता (टी), और स्वतंत्रता (आई) के क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति की ओर ले जाएगा। उनका कहना था कि नैतिकता, अखंडता और स्वतंत्रता की आधारशिला पर स्थापित सीए पेशा भारत को आगे बढ़ाने और 2047 तक दुनिया की आर्थिक महाशक्ति बनने की दिशा में काम करेगा।

-भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान के अध्यक्ष ने कहा कि कृत्रिम मेधा (एआई) से लेखा कार्यों में मदद मिलेगी। इससे चार्टर्ड अकाउंटेंट को विश्लेषणात्मक काम पर ध्यान केंद्रित करने के लिए काफी समय मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि देश में चार्टर्ड अकाउंटेंट की काफी मांग है। अग्रवाल ने कहा कि आईसीएआई का अनुमान है कि अगले 20 से 25 साल में करीब 30 लाख सीए की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि पिछले साल करीब 22 हजार छात्रों ने चार्टर्ड अकाउंटेंट की परीक्षा पास की है।

Sandeshkhali: लोगों का आक्रोश तृणमूल सरकार को उखाड़ फेंकेगा : डॉ. सुभाष सरकार

-इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया ने सीए रणजीत कुमार अग्रवाल को अध्यक्ष और सीए चरणजोत सिंह नंदा को उपाध्यक्ष चुना गया है। सीए रणजीत कुमार अग्रवाल संस्थान के 72वें अध्यक्ष के रूप में वर्ष 2024-25 तक इस पद पर रहेंगे। देश भर में 4 लाख से अधिक सदस्यों और 8.5 लाख से अधिक छात्रों के साथ आईसीएआई सबसे बड़ा लेखांकन संस्थान है।

-साल 1949 में स्थापित आईसीएआई का मुख्यालय राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में स्थित है। इसके पांच क्षेत्रीय कार्यालय मुंबई, चेन्नई, कानपुर, कोलकाता और नई दिल्ली में स्थित हैं। अपनी 175 शाखाओं के माध्यम से आईसीएआई पूरे देश में फैला हुआ है। आईसीएआई का भारत के बाहर विदेश में 50 चेप्टर स्थापित हैं। इसके अलावा दुबई में भी इसका एक कार्यालय कार्यरत है।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.