“किसान महापंचायत में मिया खलीफा को देखने आए थे लोग, लेकिन….” भाजपा का पलटवार

हरियाणा में पुलिस की पिटाई के बाद आंदोलनकारी किसानों ने उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में महापंचायत का आयोजन किया था। इस महापंचायत में घोषणा के अनुसार आंदोलनकारी किसानों के नेता राकेश टिकैत भीड़ नहीं जुटा पाए।

किसान पंचायत के नेता राकेश टिकैत ने यूपी के मुजफ्फरपुर में नए किसान कानून के खिलाफ किसानों के आंदोलन को संबोधित किया। इसी मंच से उन्होंने भाजपा और केंद्र सरकार पर निशाना साधा। टिकैत ने भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने की अपील करते हुए कहा कि यह एक दंगा करने वाली पार्टी है। लेकिन अब भाजपा ने भी उन पर पलटवार किया है।

भाजपा का पलटवार
राकेश टिकैत के एक ट्वीट का जवाब देते हुए भाजपा के उत्तर प्रदेश के प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने ट्वीट कर कहा कि 20,000 लोगों को भी एक साथ नहीं ला पाए और 20 लाख का का दावा कर रहे थे। चार फोटो ट्वीट किया है, जिनमें उनका अपना चेहरा ही दिख रहा है, मिया खलीफा के आने की अफवाह से थोड़ी भीड़ जुट गई थी, लेकिन सभी निराश होकर चले गए।

10 लाख किसानों के जुटने का दावा
हरियाणा में पुलिस की पिटाई के बाद आंदोलनकारी किसानों ने उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में महापंचायत का आयोजन किया था। इस महापंचायत में घोषणा के अनुसार आंदोलनकारी किसानों के नेता राकेश टिकैत भीड़ नहीं जुटा पाए। हालांकि उन्होंने अपना रुख आक्रामक दिखाने की कोशिश की और दावा किया कि महापंचायत में 10 लाख किसान जमा हुए थे।

ये भी पढ़ेंः जब महिला पत्रकार के साथ हो गया ऐसा व्यवहार!

टिकैत का मिशन यूपी चुनाव
इस महापंचायत में टिकैत ने कहा कि लोगों को समझना चाहिए कि कौन (मोदी) इस देश की दौलत बेच रहा है। इसके लिए मुजफ्फरनगर जैसी महापंचायतों का आयोजन और स्थानों पर भी किया जाएगा। केवल उत्तर प्रदेश या उत्तराखंड को भाजपा से नहीं बचाना है बल्कि पूरे देश को बचाना होगा। मोदी सरकार देश की सारी संपत्ति जैसे कृषि भूमि, राजमार्ग, बिजली, जीवन बीमा कंपनियां, बैंक, अडानी और अंबानी जैसी कंपनियों को बेच रही है। बता दें कि 2022 में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव होने हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here