आखिर राहुल गांधी ने बताया अपने गुरु का नाम

राहुल गांधी ने कहा कि मैं भाजपा और आरएसएस के लोगों का आभारी हूं, क्योंकि वह जितना अधिक हम पर हमला करते हैं, उतना ही अधिक हम उससे सीखते हैं।

देश की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा और विपक्ष पार्टी कांग्रेस एक-दूसरे के धुर विरोधी है। दोनों पार्टियों के नेता एक-दूसरे को देखना भी पसंद नहीं करते हैं। लेकिन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भाजपा से बहुत कुछ सीख रहे हैं। यह बात उन्होंने खुद स्वीकार की है। राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा और आरएसएस से हमें बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है। राहुल गांधी ने यहां तक कह दिया कि भाजपा और आरएसएस हमारे गुरु हैं और हम उनसे सीख रहे हैं।

भाजपा और आरएसएस का माना आभार
राहुल गांधी एक बार फिर भारत जोड़ो यात्रा शुरू करने जा रहे हैं। इससे पहले उन्होंने शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने भाजपा और आरएसएस को लेकर बड़ी बात कही है। राहुल गांधी ने कहा कि मैं भाजपा और आरएसएस के लोगों का आभारी हूं, क्योंकि वह जितना अधिक हम पर हमला करते हैं, उतना ही अधिक हम उससे सीखते हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि मैं भाजपा और आरएसएस को अपना गुरू मानता हूं, क्योंकि वह मुझे रास्ता दिखा रहे हैं और हम उसी रास्ते पर चलकर आगे बढ़ रहे हैं। राहुल गांधी ने कहा कि किस तरह से हमें आगे बढ़ना इसके लिए भी वह हमें ट्रेनिंग दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें- एस जयशंकर ने पाकिस्तान को सुनाई खरी-खरी, कहा- पहले खत्म करो आतंकवाद फिर होगी बात

‘तब किसी को याद नहीं आता प्रोटोकॉल’
दिल्ली में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान सुरक्षा में हुई चूक के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा नेता और हमारी सुरक्षा से जुड़े विषय पर अलग-अलग मापदंड है। राहुल ने कहा कि जब भाजपा के नेता रोड शो करते हैं और खुली जीप पर घूमते हैं, उस समय किसी को भी प्रोटोकॉल की याद नहीं आती है। उन्होंने आगे कहा कि सीआरपीएफ जानती है कि हमारे लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं।

दरअसल, दिल्ली में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान कांग्रेस ने राहुल गांधी की सुरक्षा में चूक को लेकर गृह मंत्रालय को पत्र लिखा था। जिसका जवाब सीआरपीएफ ने दिया था। सीआरपीएफ ने दो टूक कहा था कि राहुल गांधी की सुरक्षा में कोई चूक नहीं हुई है, बल्कि वह खुद ही सुरक्षा घेरा तोड़ रहे हैं। राहुल गांधी ने 2022 से अब तक 113 बार सुरक्षा घेरा तोड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here