‘महाराष्ट्र शोकमग्न है!’ नासिक ऑक्सीजन लीक कांड पर सीएम ने इन शब्दों में व्यक्त की अपनी संवेदना

नासिक त्रासदी ने महाराष्ट्र सरकार के सामने एक अलग तरह की चुनौती पैदा कर दी है। इसे लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के साथ ही स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी अपने बयान जारी किए हैं।

महाराष्ट्र के नासिक स्थित जाकिर हुसैन अस्पताल में ऑक्सीजन टैंक लीक होने से 22 मजदूरों की मौत हो गई, जबकि लगभग 40 लोगों की हालत गंभीर है। इस घटना को लेकर महाराष्ट्र ही नहीं, पूरे देश में दुख और शोक व्यक्त किया जा रहा है। इस स्थिति में महाराष्ट्र की उद्धव सरकार सकते में है। अचानक हुई इस दुर्घटना ने सरकार के सामने एक अलग तरह की चुनौती पैदा कर दी है। इसे लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के साथ ही स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी अपने बयान जारी किए हैं।

दुख व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैः मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री ने इस त्रासदी पर अपना दुख और संवेदना इन शब्दों में व्यक्त किया है,’कोरोना संकट ने देश को एक दुष्चक्र में डाल दिया है। इस महामारी के साथ एक युद्ध लड़ा जा रहा है। कहीं ऑक्सीजन नहीं है तो कहीं दवाएं नहीं हैं। साथ में बेड की भी कमी है। इस कारण मरीज मर रहे हैं। नासिक महानगरपालिका अस्पताल में ऑक्सीजन लिक की दुर्घटना की खबर चौंकाने वाली है। ऑक्सीजन टैंक के लिक होने से 22 मरीजों की मौत हो गई। इस शोक को व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं है। अचानक, इस तरह की दुर्घटना हो गई, जबकि महाराष्ट्र सरकार एक-एक रोगी को ठीक करने के लिए दांव लगा रही है। राज्य का पूरा तंत्र यह युद्ध लड़ रहा है। हम मृतकों के रिश्तेदारों को कैसे सांत्वना दे सकते हैं? उनके आंसू कैसे पोछें? दुर्घटना के बावजूद, मृतकों के परिजनों का दुख बड़ा है। इस दुर्घटना की गंभीरता से जांच की जाएगी।’

ये भी पढ़ेंः नासिक में ऑक्सीजन टैंक लिक होने से 22 लोगों की मौत,40 की हालत गंभीर

महाराष्ट्र शोक में है!
सीएम ने कहा,’यदि कोई इस दुर्घटना के लिए जिम्मेदार है, तो उसे बख्शा नहीं जाएगा, लेकिन किसी को भी इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए। यह पूरे महाराष्ट्र पर हमला है। पूरा महाराष्ट्र नासिक त्रासदी पर शोक में है।’

उच्चस्तरीय जांच के आदेश
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि उन्होंने पूरी घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपए की मदद देने की घोषणा की है।

ये भी पढ़ेंः भोपाल में ऑक्सीजन सिलेंडर की लूट! जानिये क्या है मामला

प्रशासन के लिए सबक
सीएम ने कहा,’नासिक में हुई यह घटना न केवल सभी के लिए चौंकाने वाली है बल्कि प्रशासन को यह भी सिखाती है कि इस पूरे संघर्ष में हमें बहुत सावधान रहना होगा। हम पिछले एक साल से कोरोना की लहर का सामना कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में मरीजों की जान बचाने के लिए उपलब्ध डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ दिन-रात काम कर रहे हैं। भविष्य में इस तरह की घटनाएं नहीं होनी चाहिए। प्रशासन को बहुत सावधानी से काम करना चाहिए ताकि ऐसी किसी भी घटना को रोका जा सके, जिससे स्वास्थ्य प्रणाली का मनोबल गिरता हो।’

ऑक्सीजन के एक-एक कण की रक्षा की जाए
ठाकरे ने आगे कहा, ‘कहने की जरूरत नहीं है कि कोरोना की इस लहर में ऑक्सीजन महत्वपूर्ण है। हम ऑक्सीजन के एक-एक कण के लिए दिन-रात प्रयास कर रहे हैं। मैंने मुख्य सचिव को जांच करने का निर्देश दिया है।’

 दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाईः अजित पवार
नासिक के जाकिर हुसैन अस्पताल में घटी इस घटना पर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने मृतकों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कही है। उपमुख्यमंत्री ने संबंधित एजेंसियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि राज्य में सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुरक्षित और सुचारू रूप से जारी रहे। इसके साथ ही यह सुनिश्चित किया जाए कि ऐसी दुर्घटनाएं दोबारा न हों।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here