महाराष्ट्र के मंत्री से पूछताछ के पहले ऐसी घेराबंदी… जानें ईडी द्वारा अधिकारी पर छापे का कनेक्शन

राज्य में सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई चलती रही। इसको लेकर राजनीतिक आरोप भी लगते रहे।

महाराष्ट्र में सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय सबेरे से ही कार्रवाई चल रही है। इसमें शिवसेना सांसद भावना गवली के यहां छापा मारने की कार्रवाई और राज्य परिवहन मंडल (आरटीओ) के एक अधिकारी के तीन ठिकानों पर छापामार कार्रवाई शामिल है।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने राज्य परिवहन मंडल के अधिकारी बजरंग खरमाटे के तीन ठिकानों पर कार्रवाई शुरू की है। यह कार्रवाई राज्य परिवहन मंडल में कर्मचारियों के स्थानांतरण में भ्रष्टाचार के आरोपों पर हो रही है। बजरंग खरमाटे डिप्टी आरटीओ हैं। उनके खिलाफ लंबे समय से भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं। आरोप है कि खरमाटे ने परिवहन विभाग में अन्य अधिकारियों के साथ मिलकर कर्मचारियों के स्थानांतरण में बड़ा भ्रष्टाचार किया। इससे इकट्ठा धन मंत्री तक पहुंचाया गया।

ये भी पढ़ें – दही हांडी पर मनसे ने खेला हिंदुत्व कार्ड! पुलिस हिरासत में अविनाश जाधव

मंत्री के खास हैं खरमाटे?
आरोपों के अनुसार बजरंग खरमाटे परिवहन मंत्री अनिल परब के करीबी हैं। उन पर परिवहन विभाग में पैसे लेकर स्थानांतरण कराने में संलिप्त रहने का आरोप है। प्रवर्तन निदेशालय ने खरमाटे के तीन स्थानों पर छापामार कार्रवाई की है। भारतीय जनता पार्टी के नेता किरिट सोमैया के अनुसार बजरंग खरमाटे जो वर्धा के डेप्युटी आरटीओ थे, उन्होंने पिछले वर्ष आरटीओ कर्मियों के स्थानांतरण के लिए 200 करोड़ रुपए की धन उगाही की थी, जबकि 2021 में उन्होंने 200 करोड़ रुपए की धन उगाही की है। यह राशि मंत्री और अधिकारियों के बीच वितरित की गई है। बजरंग खरमाटे का नाम विवादित रहा है, वे अपने अभी तक के कार्यकाल में दो बार निलंबित हो चुके हैं।

और नाम आ सकते हैं निशाने पर
राज्य परिवहन विभाग के डेप्युटी आरटीओ बजरंग खरमाटे के अलावा अविनाश ढाकने, नासिक के आरटीओ भारत कलास्कर का नाम भी सामने आया है। इन सभी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा है। भाजपा नेता किरिट सोमैया ने इन सभी की जांच की मांग की है। इसके लिए एक पत्र भी उन्होंने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के पास लिखा था।

इन संपत्तियों के हैं मालिक
सूत्रों के अनुसार जो जानकारी सामने आई है उसमें बजरंग खरमाटे के पास बड़ी संपत्ति है। उनके पुणे में दो बंगले, 4 एलजी शोरूम, 2 आभूषण शोरूम हैं इसके अलावा इंदौर में भी एक नामित आभूषण शोरूम के फ्रैंचाइजी हैं।

पूछताछ के पहले राऊत से मिले
मंत्री अनिल परब ने ईडी के समक्ष पेश होने के दिन के पहले संजय राऊत से भेंट की। यह भेंट अल्प काल तक की ही रही। परंतु, मंगलवार को ईडी के समक्ष पेश होने के पहले परब की यह भेंट महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here