10 हजार कर्मचारी करवाएंगे, नगर निगम-पंचायत चुनाव

चुनाव कराने को लेकर मप्र राज्य चुनाव आयोग द्वारा दिये गये निर्देशों के बाद जिला प्रशासन द्वारा स्थानीय चुनाव से संबंधित कार्यवाही तेज कर दी है।

बैतूल जिले में नगरीय निकाय और पंचायत राज संस्थाओं के आम निर्वाचन को लेकर सरगर्मियां तेजी से नजर आ रही हैं। चुनाव कराने को लेकर मप्र राज्य चुनाव आयोग द्वारा दिये गये निर्देशों के बाद जिला प्रशासन द्वारा स्थानीय चुनाव से संबंधित कार्यवाही तेज कर दी है। स्थानीय निर्वाचन कार्यालय में भी चहल – पहल स्पष्ट नजर आ रही है।

नगरीय निकाय एवं पंचायत चुनाव कराने के लिए जिला प्रशासन द्वारा पूर्व में ही शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों का डेटा बेस तैयार कर लिया है। अब चुनाव आयोग की वेबसाइड पर डेटा बेस अपडेट किया जायेगा। स्थानीय निकायों के चुनाव कराने के लिए बैतूल जिले में 10 हजार से अधिक अधिकारियों- कर्मचारियों की तैनाती की जायेगी। अधिकारियों- कर्मचारियों को मतदान दलों, सेक्टर अधिकारी, सेक्टर मजिस्ट्रेड, नोडल अधिकारी सहित चुनाव से जुड़े अन्य क्षेत्रों की जिम्मेदारी सौंपी जायेगी। नगरीय निकाय एवं पंचायत के लिए ढाई हजार से अधिक मतदान दलों का गठन किया जायेगा।नगरीय निकाय एवं पंचायत चुनाव के लिए पूर्व में ही मतदान दलों का निर्धारण किया गया है। नगरीय निकायों के चुनाव में 233 एवं ग्राम पंचायत संस्थाओं के चुनाव में 1781 मतदान केन्द्रों पर वोट डाले जायेंगे। नगरीय निकाय चुनाव प्रत्येक मतदान दल में चार एवं ग्राम पंचायत चुनाव में प्रत्येक मतदान केन्द्र पर पांच कर्मचारियों की तैनाती की जायेगी। सिर्फ मतदान दलों के गठन में भी लगभग दस हजार अधिकारी- कर्मचारी बतौर मतदान कर्मी के रूप में तैनात रहेंगे। इसके अलावा रिजर्व मतदान केन्द्रों, नोडल अधिकारी, सेक्टर मजिस्टे्रट सहित अन्य कार्यो की जिम्मेदारी अधिकारियों- कर्मचारियों को दी जाएगी।

ये भी पढ़ें – पुलिस हत्या प्रकरण: ‘शिव राज’ में नप गए आईजी

नगरीय निकाय एवं पंचायत चुनाव के लिए संवेदनशील एवं अतिसंवेदनशील मतदान केन्द्रों का निर्धारण राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों द्वारा किया जायेगा।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक स्थानीय, निर्वाचन कार्यालय द्वारा संवेदनशील, अतिसंवेदनशील मतदान केन्द्रों से संबंधित मतदान केन्द्रों की सूची पुलिस अधीक्षक बैतूल को भेज दी है। पुलिस अधीक्षक, एसडीएम, एसडीओपी सहित पुलिस एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों की संयुक्त बैठक में संवेदनशील एवं अतिसंवेदन केन्द्रों का निर्धारण किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here