टोक्यो 2020 ओलिंपिक: बेटियों की बल्ले-बल्ले, हॉकी-निशानेबाजी में निराशा

टोक्यो 2020 ओलिंपिक में भारत के लिए पदकों की आस बनी हुई है।

टोक्यो ओलिंपिक में भारत की बेटियों ने आशाओं को जीवित रखा है। मेरी कॉम, पीवी सिंधू और मनिका बत्रा अपने-अपने मैचों में विजेता रही हैं। जबकि हॉकी, तीरंदाजी, जिमनास्टिक के लिए निराशाजनक दिन रहा।

ये भी पढ़ें – महाराष्ट्र में दौरों का दौर… चिपलूण में मुख्यमंत्री को झेलना पड़ा महिलाओं का आक्रोश

भारत के लिए टोक्यो 2020 ओलिंपिक के दूसरा दिन काफी उथल पुथल भरा रहा।

  • बॉक्सिंग में मेरी कॉम ने जोमिनिकन रिपब्लिक की गार्शिया को 4-1 से हराया।

  • बैडमिंटन में पीवी सिंधू ने इजरायल की केनिया पॉलिकर्पोवा को 21-7, 21-10 के सीधे सेटों में हरा दिया।
  • टेबल टेनिस में मनिका बत्रा ने यूक्रेन की मार्गरेटा पेसोत्का को 4-3 से हरा दिया।
  • रोविंग में अर्जुन लाल जाट और अरविंद सिंह ने सेमी फाइनल में प्वेश कर लिया है।
  • अलावा हॉकी में ऑस्ट्रेलिया से बुरी तरह पराजय का मुंह देखना पड़ा। ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 7-1 से हरा दिया।
  • टेनिस में सानिया मिर्जा और अकिंता रैना को हार का मुंह देखना पड़ा
  • जिमनास्टिक में भी प्रणति नायक मेडल राउंड में अपनी जगह नहीं बना पाईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here