ओलंपिक में ओपनिंग पदक… मीराबाई चानू ने 21 साल बाद इस खेल में बढ़ाया मान

टोक्यो ओलंपिक में भारत ने पदक तालिका में अपना नाम दर्ज करा दिया है।

भारतीय महिला वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रच दिया दिया है। 49 किलो श्रेणी में उन्होंने रजत पदक प्राप्त करते हुए देश का मान बढ़ाया है। चानू ने इस जीत के साथ एक इतिहास भी रचा है।

देश को भारोत्तोलन (वेटलिफ्टिंग) में 21 साल तक पदक की प्रतिक्षा करनी पड़ी है। इसके पूर्व कर्णम मल्लेश्वरी ने वर्ष 2000 में सिडनी ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक प्राप्त किया था। उठाया 202 किलो ग्राम वजन मीराबाई ने क्लीन एण्ड जर्क में 115 किलोग्राम और स्नैच में 87 किलोग्राम उठाया। उन्होंने कुल 202 किलोग्राम वजन उठाया।

जीत का प्रदर्शन
मीराबाई चानू का एक वीडियो आया है, जिसे टोक्यो 2020 ने जारी किया है। इसमें लिखा गया है कि, यही है जिसके कारण आप इतिहास में दर्ज हो गई।

देश की शुभकामनाएं
मीराबाई चानू के पदक जीतने पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुभकामनाएं दी हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मीराबाई को शुभकामना देते हुए अपने ट्वीट में लिखा कि, इससे सुखद शरुआत के लिए नहीं कहा जा सकता। उन्हें भारोत्तोलन में रजत पदक जीतने पर शुभकामनाएं। उनकी सफलता प्रत्येक भारतीय को प्रेरित करती है।

झूम उठा परिवार
मणिपुर में मीराबाई चानू का परिवार और मित्र सबेरे से ही टेलीविजन के सामने बैठे थे। ये सभी मिराबाई के प्रदर्शन को बड़ी ही बेसब्री से निहार रहे थे। जैसे ही मीराबाई ने विजयी भार उठाया सभी खुशी से झूम उठे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here