बसपा के पूर्व विधायक के 35 ठिकानों पर छापा, नोटों के पहाड़ के साथ मिली ‘इतने’ करोड़ की नकदी

आयकर अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल जब्त कागजात, लैपटॉप, मोबाइल आदि की जांच की जा रही है।

बहुजन समाज पार्टी के पूर्व विधायक और एचएमए ग्रुप के मालिक जुल्फिकार अहमद भुट्टो पर आयकर विभाक का शिकंजा कस गया है। उसके 35 ठिकानों पर छापेमारी की गई है। ये छापेमारी 85 घंटे तक चली। इस दौरान भुट्टो की 100 करोड़ की अघोषित रकम आयकर विभाग ने बरामद की।

एचएमए देश का तीसरा सबसे अधिक मीट निर्यातक कंपनी है। इसका सलाना 2000 करोड़ रुपए का टर्नओवर है। यह कंपनी 40 देशों में फ्रोजन मीट का निर्यात करती है। आयकर विभाग ने वित्तीय अनियमितता के बारे में जानकारी मिलने पर कंपनी के दिल्ली, गाजियाबाद, कानपुर, उन्नाव, चंडीगढ़, मेरठ, रायपुर, आगरा सहित 12 शहरों में 35 ठिकानों पर छापा मारा। आयकर विभाग के अधिकारियों ने पैरामिलिट्री फोर्स के साथ इनके ठिकानों पर छापेमारी की।

जब्त उपकरणों की जांच जारी
आयकर अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल जब्त कागजात, लैपटॉप, मोबाइल आदि की जांच की जा रही है। जांच के दौरान भुट्टो के घर से करोड़ों रुपए के गहने और नकदी बरामद की गई। दस्तावेजों में कई राज्यों में रियल एस्टेट में निवेश के कागजात भी मिले हैं।

ऐसे होता था काला कारोबार
आयकर विभाग के अधिकारियों को जानकारी मिली है कि मीट निर्यात के लिए एचएमए ग्रुप ने मुखौटा कंपनियों के माध्यम से भुगतान किया और गरीब कर्मचारियों के बैंक खाते खुलवाकर उनमें करोड़ों रुपए का लेनदेन किया। जांच में ग्रुप के इसरार अहमद सहित 14 कर्मचारियों के बैंक अकाउंट से लेनदेन किया गया। इन कर्मचारियों से साइन कराकर भुगतान किया जाता था। समझा जा रहा है कि मुखौटा कंपनियों में इन कर्मचारियों को डाइरेक्टर बनाया गया है।

शादी में पानी की तरह बहाए थे पैसे
बता दें भुट्टो की बेटी की हाल ही में शादी हुई थी। उसमें पैसे पानी की तरह बहाया गया था। शादी में 20 हजार से अधिक लोग शामिल हुए थे। इसके साथ ही लड़का पक्ष को करोड़ रुपए दहेज दिया गया था। निकाह कराने वाले मौलवी को 11 लाख नगदी के साथ ही कार भी दी गई थी। इसके बाद एचएमए ग्रुप चर्चा में आ गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here