अब ‘छोटा’ भी पहुंचा एम्स… कहते हैं कोरोना हो गया?

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा रॉजन तिहाड़ जेल में बंद है। उस पर यहां प्रलंबित मामलों की सुनवाई चल रही है। इस बीच तिहाड़ में बंद आरोपी और दोषियों के कोरोना ग्रसित होने की घटनाएं आने लगीं है। इसके लिए जेल प्रशासन ने जेल के अंदर ही विलगीकरण कक्ष बनाया हुआ है।

मुंबई का गैंगस्टर छोटा राजन दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है। अब सुनने में आ रहा है कि उसे एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसके कोरोना ग्रसित होने की बात सामने आई है। छोटा राजन को 25 अप्रैल को एम्स में भर्ती किया गया है। वह तेज बुखार से परेशान था जिसके बाद तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया है।

छोटा राजन मुंबई के चेंबूर का रहनेवाला है। उसका परिवार अब भी चेंबूर के तिलक नगर में रहता है। उसे 2015 में इंडोनेशिया के बाली से प्रत्यर्पण के माध्यम से भारत लाया गया था। राजन के विरुद्ध चल रहे सभी प्रकरण सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन के पास स्थानांतरित कर दिये गए हैं। इन सभी प्रकरणों की सुनवाई विशेष न्यायालय में चल रही है। तिहाड़ जेल में इसके पहले भी कई बंदियों को कोरोना संक्रमण हो चुका है। छोटा राजन को अतिसुरक्षित माने जानेवाले सेल में रखा गया था।

ये भी पढ़ें – ऐसे नाजुक वक्त में भी दवाओं की कालाबाजारी से बाज नहीं आ रहे धंधेबाज

जेल कोरोना विलगीकरण कक्ष
तिहाड़ जेल में कोविड 19 संक्रमित कैदियों के लिए अलग से विलगीकरण कक्ष गठित किया गया है। इसके अलावा जेल प्रशासन संक्रमण को नियंत्रित करने के प्रयत्न करने की बात करता रहा है लेकिन इसके बावजूद यहां कोरोना का प्रसार लगातार जारी है।

चल रहे हैं इतने मामले
छोटा राजन पर धन उगाही और हत्या के 70 से अधिक प्रकरण चल रहे हैं। इसके अलावा 2011 में पत्रकार ज्योतिर्मय डे (जेडे) की हत्या के मामले में उसे दोषी ठहराया गया है और वर्ष 2018 में उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। 1993 के श्रृंखलाबद्ध बम धमाकों के मामले में आरोप हनीफ कडावाला की हत्या के मामले में छोटा राजन को बरी कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here