पीएम को मिली 12 करोड़ की बुलेट प्रूफ कार! विशेषताएं जानकार रह जाएंगे दंग

मर्सिडीज मेबैक एस650 गार्ड एक अत्याधुनिक, हाई-एंड सेफ्टी व्हीकल है। इस गाड़ी में  वीआर10 लेवल प्रोटेक्शन है। इसे अपनी तरह का सबसे सुरक्षित वाहन माना जाता है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के बेड़े में अब जर्मन लक्जरी कार निर्मित मर्सिडीज मेबैक एस650 शामिल हो गई है। अभी तक उनके बेड़े में रेंज रोवर वोग और टोयोटा लैंड क्रूजर शामिल थीं। लेकिन अब उनके बेड़े में अत्याधुनिक मर्सिडीज मेबैक एस 650 भी शामिल हो गई है।

प्रधानमंत्री मोदी हाल ही में इस नई मर्सिडीज मेबैक एस650 में पहली बार हैदराबाद हाउस के बाहर नजर आए थे। मोदी   रुसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के भारत यात्रा के दौरान उनसे मिलने के लिए उसी वाहन में पहुंचे थे। प्रधानमंत्री के बेड़े की यह नई सदस्य हाल ही में एक बार फिर सामने आई।

सबसे सुरक्षित वाहनों में से एक
मर्सिडीज मेबैक एस650 गार्ड एक अत्याधुनिक, हाई-एंड सेफ्टी व्हीकल है। इस गाड़ी में  वीआर10 लेवल प्रोटेक्शन है। इसे अपनी तरह का सबसे सुरक्षित वाहन माना जाता है। इसे दुनिया की सबसे महंगी बुलेट प्रूफ गाड़ियों में से एक माना जाता है।

पीएम के लिए कौन देता है कारों का ऑर्डर?
देश में सबसे महत्वपूर्ण लोगों की सुरक्षा के लिए विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) जिम्मेदार है। प्रधानमंत्री के काफिले में नए वाहनों की मांग एसपीजी के जरिए की जाती है। एसपीजी सुरक्षा आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए नए वाहन की मांग करता है।

एक ही समय में कई गाड़ियों का ऑर्डर दिया जाता है ताकि ….
प्रायः बेहद अहम लोगों के काफिले में लोगों को भ्रमित करने के लिए एक ही तरह के कई वाहन होते हैं। इससे यह जानना मुश्किल हो जाता है कि महत्वपूर्ण व्यक्ति किस गाड़ी में बैठा है। इसीलिए एक ही समय में अक्सर एक से अधिक वाहनों का ऑर्डर दिया जाता है।

क्या है कार की खासियत?
इसमें 6.0 लीटर ट्विन टर्बो वी12 इंजन है, जो 516 बीएचपी पावर उत्पन्न करता है। वाहन का पिकअप टॉर्क लगभग 900 एनएम है। इसकी अधिकतम गति 160 किमी प्रति घंटा है।

इतना सुरक्षित है कि..
इसकी बॉडी और मटेरियल इतना मजबूत है कि ये गोलियों को भी झेल सकता है। इस व्हीकल में इस्तेमाल होने वाले इक्विपमेंट को 2010 एक्सप्लोजन प्रूफ व्हीकल की रेटिंग मिली है। साथ ही अगर 15 किलो टीएनटी विस्फोटक मात्र 2 मीटर की दूरी पर फट भी जाए तो भी यह सुरक्षित रहती है। कार की खिड़की के शीशे पॉलीकार्बोनेट से ढके हैं। वाहन के पिछले हिस्से को विस्फोटों से बचाने के लिए डिजाइन किया गया है। गैस अटैक होने पर रियर केबिन में स्पेशल एयर सप्लाई यूनिट भी दी गई है।

ये भी पढ़ेंः महाराष्ट्र में 53 ईसाई हिंदू बने, ‘इतने’ और लोग धर्म परिवर्तन के लिए तैयार

फ्यूल टैंक पर विशेष कवर
इसके फ्यूल टैंक को खास तरह से कोट किया गया है। इससे दुर्घटना के बाद ईंधन टैंक फट जाता है, लेकिन छेद अपने आप भर जाते हैं। यह वही सामग्री है, जिसका उपयोग बोइंग एयरलाइंस द्वारा एएच-64 अपाचे टैंक हेलीकॉप्टर के लिए किया जाता है। यहां तक ​​कि अगर वाहन का टायर पंक्चर हो गया है, तो इसका उपयोग फ्लैट टायर विकल्प के माध्यम से तेज गति के लिए किया जा सकता है ताकि आपात स्थिति में सवार को सुरक्षा मिल सके।

सीट भी आरामदायक
कार की पिछली सीटों को इस तरह से फिट किया गया है कि ये काफी पीछे तक जा सकती हैं। यह सामने काफी लेगस्पेस प्रदान करती है।

कितनी है कार की कीमत?
रिपोर्ट्स के मुताबिक, मर्सिडीज ने पिछले साल भारत में मेबैक एस600 गार्ड को 105 मिलियन रुपये में लॉन्च किया था। बाद की एस650 सीरीज 12 करोड़ रुपये से शुरू होती है।

पहले बुलेट प्रूफ महिंद्रा स्कॉर्पियो में करते थे सवारी
मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तो बुलेट प्रूफ महिंद्रा स्कॉर्पियो में सवारी करते थे। 2014 में प्रधान मंत्री बनने के बाद, उन्होंने बीएमडब्ल्यू सेवन सीरीज वाहनों का उपयोग करना शुरू कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here