समीर वानखेड़े ने खटखटाया सत्र न्यायालय का दरवाजा! लगाए ऐसे आरोप

समीर वानखेड़े के खिलाफ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक कथित रुप से बयानबाजी कर रहे हैं और उन्हें जेल में डालने की धमकी दे रहे हैं।

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े ने मुंबई सत्र न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। न्यायालय में उन्होंने कहा है कि उनके खिलाफ बड़ा षड्यंत्र रचा जा रहा है, जिसमें उन्हें झूठे मामले में फंसाया जा सकता है। वानखेड़े ने न्यायालय में कहा है कि कुछ प्रभावशाली लोग हाई प्रोफाइल क्रूज रेव पार्टी मामले को प्रभावित करना चाह रहे हैं। इसलिए वे इस तरह के हथकंडे अपना रहे हैं।

इससे पहले नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े ने अपने कर्तव्य पालन में कुछ राजनीतिज्ञों से परेशान होकर मुंबई पुलिस आयुक्त को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में कहा है कि कुछ लोग उन्हें झूठे केस में फंसाने का षड्यंत्र रच रहे हैं।

एनसीपी बनाम एनसीबी
बता दें कि उनके खिलाफ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नवाब मलिक कथित रुप से बयानबाजी कर रहे हैं और उन्हें जेल में डालने की धमकी दे रहे हैं। हालांकि समीर वानखेड़े ने उनके सभी आरोपों को गलत बताते हुए कहा है कि आप मंत्री हैं, अपने आरोपों की जांच करा सकते हैं।

पत्र में क्या है?
पत्र में लिखा गया है कि उन्हें इस बात की जानकारी मिली है कि कुछ अज्ञात लोग हाई प्रोफाइल रेव पार्टी को लेकर उन पर गलत आरोप लगाकर उन्हें बदनाम करने के साथ ही झूठे केस में फंसाने का षड्यंत्र रच रहे हैं। उन्होंने नवाब मलिक का नाम लिए बिना लिखा है कि कुछ बड़े पदों पर बैठे लोग उन्हें नौकरी से हटाने और जेल भेजने की धमकी दे रहे हैं। उन्होंन यह भी लिखा है कि इस बात पर गौर किया जाना चाहिए कि एनसीबी के डिप्टी डायरेक्टर जनरल मुथा अशोक जैन ने प्रभाकर सैल के आरोप को विभाग के डायरेक्टर जनरल के पास जांच के लिए भेज दिया है। पत्र में समीर वानखेड़े ने पुलिस आयुक्त से गलत उद्देश्य से लगाए जा रहे आरोपों पर कोई भी कार्रवाई न करने का अनुरोध किया है।

ये भी पढ़ेंः क्रूज रेव पार्टी: गवाह ने कहा इतने के लेनदेन का था खेल? एजेंसी ने कहा, ‘झूठी बात’

 लेनदेन का आरोप
आर्यन खान ड्रग्स केस में गवाह होने का दावा करने वाले प्रभाकर सैल ने एनसीबी पर 18 करोड़ रुपए की डील करने के साथ ही रेव पार्टी के आरोपियों से कोरे कागज पर हस्ताक्षर करवाने का आरोप लगाया है। एनसीबी अधिकारी मुथा अशोक जैन के अनुसार प्रभाकर सैल का हलफनामा सोशल मीडिया के जरिए उनके पास पहुंचा है। खुद को किरण गोसावी का अंगरक्षक बताने वाले प्रभाकर सैल ने दावा किया है कि उसने गोसावी और सैम डिसूजा की बातचीत सुनी थी, जिसमें 8 करोड़ रुपए समीर वानखेड़े को देने की बात कही गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here