#GujaratRiots तीस्ता सीतलवाड को अंतरिम जमानत, निर्देशों का करना होगा पालन

गुजरात दंगा प्रकरण में सर्वोच्च न्यायालय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरुद्ध सभी जांच का निपटारा करने के बाद तीस्ता सेतलवाड की संदिग्ध भूमिका की जांच का आदेश दिया था।

गुजरात दंगा प्रकरण में गिरफ्तार की गई तीस्ता सीतलवाड को सर्वोच्च न्यायालय से अंतरिम जमानत मिल गई है। वर्ष 2002 के गुजरात दंगा प्रकरण में उन पर लोगों को भड़काने और दंगा पीड़ितों के नाम पर चंदा इकट्ठा करके उसका निजी उपयोग करने का आरोप लगा था।

सर्वोच्च न्यायालय ने अपने आदेश में अंतरिम जमानत देते हुए तीस्ता का नियमित जमानत के लिए उच्च न्यायालय में याचिका करने को कहा है। नियमित जमानत पर जब तक उच्च न्यायालय का निर्णय नहीं आ जाता तभी तक अंतरिम रहत दी गई। तीस्ता को अपना पासपोर्ट जमा करना होगा। इसके साथ ही जांच एजेंसियों को पूछताछ में पूरा सहयोग करना होगा।

ये भी पढ़ें – कांग्रेस के अहमद पटेल से लिए पैसे, तीस्ता ने ऐसे रची थी मोदी को सेटल करने की प्लानिंग

तीस्ता की इसलिए हुई गिरफ्तारी
तीस्ता सीतलवाड को गुजरात एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड ने 26 जून को जुहू, मुंबई के घर से गिरफ्तार किया था। यह कार्रवाई सर्वोच्च न्यायालय द्वारा यह आदेश देने के बाद की गई थी, जिसमें तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी समेत 64 लोगों को गुजरात दंगों के प्रकरण में क्लीन चिट देते हुए तीस्ता सीतलवाड की भूमिका की जांच की आवश्यकता व्यक्त की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here