मारियुपोल पर कब्जे के करीब रूसी सेना? चेचन्या नेता ने किया ये दावा

रूस अब यूक्रेन के पूर्वी क्षेत्र पर व्यापक हमले शुरू कर दिया है। उसका मुख्य लक्ष्य डोनबास क्षेत्र पर कब्जा करना है।

यूक्रेन के मारियुपोल शहर पर रूस सेना कब्जे करने के करीब है, यह दावा चेचन्या के रूस समर्थित नेता रमजान कादिरोव ने किया है। उन्हें यकीन है कि रूसी सेना कुछ घंटे के भीतर मारियुपोल के प्रमुख बंदरगाह में यूक्रेन के प्रतिरोध को खत्म कर देगी।

कादिरोव को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का सबसे खास मुस्लिम नेता माना जाता है। उसकी सेना में शामिल सभी लड़ाके खूंखार और हिंसक प्रवृति के लिए जाने जाते हैं।

कादिरोव का दावा
कादिरोव ने कहा कि रूसी सेना 20 अप्रैल को मारियुपोल में यूक्रेन के प्रतिरोध को खत्म कर देगी और शहर में यूक्रेन के नियंत्रण वाले अंतिम स्थल अजोवस्ताल स्टील मिल पर कब्जा कर लेगी। यूक्रेन के सैनिकों ने रूसी नाकाबंदी और निरंतर हमलों के बावजूद सात हफ्तों से अजोव सागर पर रणनीतिक बंदरगाह का बचाव किया है, जबकि शहर के अधिकतर हिस्सों पर रूसी सेना का कब्जा हो चुका है। अजोवस्ताल स्टील संयंत्र लगभग 11 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। यूक्रेन के सैनिकों ने भूमिगत सुरंगों और डिपो के विशाल नेटवर्क के जरिए रूसी सेना के समक्ष कड़ा प्रतिरोध किया है। कादिरोव की सेना मारियुपोल में रूस की तरफ से लड़ रही है। वह कई बार शहर पर कब्जे की बात कह चुके हैं।

नमाज पढ़ते देखे गए सैनिक
रिपोर्ट के मुताबिक चेचेन स्पेशल फोर्सेस को यूक्रेन के जंगल में ट्रेनिंग लेते हुए देखा गया है। कीव में अपनी संभावित तैनाती से पहले सैनिकों को नमाज पढ़ते हुए देखा गया। रमजान कादिरोव भी कुछ दिनों पहले यूक्रेन में अपनी सेना से मिलने आया था। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की कई बार दावा कर चुके हैं कि रूस उन्हें दुश्मन नंबर-1 मानता है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन का दूसरा टारगेट उनका परिवार है।

डोनबास पर कब्जे की तैयारी
रूस अब यूक्रेन के पूर्वी क्षेत्र पर व्यापक हमले शुरू कर दिया है उसका मुख्य लक्ष्य डोनबास क्षेत्र पर कब्जा करना है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने इसे ‘बैटल आफ द डोनबास’ करार दिया है। उन्होंने कहा कि रूसी सैनिक चाहे कितनी भी संख्या में क्यों न हों, यूक्रेनी सेना लड़ाई जारी रखेगी। रूसी सेना ने क्रेमिन्ना व एक अन्य छोटे शहर पर कब्जा भी कर लिया है। वहीं मारियुपोल पर कब्जे के लिए कई हफ्तों से संघर्ष कर रही पुतिन की सेना ने यूक्रेनी सैनिकों को समर्पण के लिए आखिरी मौका दिया है। उन्होंने अजोवस्टल संयंत्र को सौंपने का भी अल्टीमेटम दिया है। खार्कीव पर हुए हमलों में सात लोगों के मारे जाने व 17 से ज्यादा के घायल होने की सूचना है। रूस का कहना है कि वो समर्पण करने वाले जवानों को बाहर जाने के लिए एक सुरक्षित मार्ग मुहैया करवाएगा।

यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कही ये बात
यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की ने एक वीडियो संदेश में कहा कि रूसी सैनिकों ने डोनबास के लिए लड़ाई शुरू कर दी है। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ओलेक्जेंडर ने कहा कि रूस, यूक्रेनी सेना को हराकर लुहांस्क व डोनेस्क पर कब्जा करके क्रीमिया के लिए रास्ता बनाना चाहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here