उप्र में योगी राजः अब तक धार्मिक स्थलों से उतारे गए ‘इतने’ लाउडस्पीकर

उत्तरप्रदेश में पहली बार धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकरों के नियम-कानून लागू किये गये हैं। मुख्यमंत्री ने एक बैठक में कहा था कि किसी भी धर्म के लोग अपनी धार्मिक रीति-रिवाजों के दौरान लाउड स्पीकर का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन उसकी आवाज परिसर के बाहर न जाये।

उत्तरप्रदेश में पहली बार धार्मिक स्थलों पर लाउडस्पीकरों के नियम-कानून लागू किये गये हैं। योगी सरकार की पहल पर प्रदेश में शुरु हुए इस अभियान के तहत अब तक धार्मिक स्थलों बिना अनुमति लगे 53,942 लाउडस्पीकर उतारे गये, जबकि 60,295 लाउड स्पीकरों की ध्वनि को कम किया गया है।

स्वेच्छा से लाउड स्पीकर को उतारने का कार्य
अपर पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने 1 मई को यह जानकारी देते हुए बताया कि सरकार के इस बड़ी पहल में हर धर्म, जाति वर्ग, समुदाय के लोग अपनी सहभागिता दे रहे हैं। जिला प्रशासन की मदद कर रहे हैं। कुछ लोग स्वेच्छा से लाउड स्पीकर को उतारने का काम कर रहे हैं। साथ ही साथ सरकार की ओर से धर्म स्थलों पर लाउडस्पीकरों के लिए निर्धारित किये गए नियमों की सरहना करते हुए नजर आ रहे हैं।

ये भी पढ़ें – पटियाला हिंसाः शिवसेना नेता हरीश सिंह पर आफत, पुलिसिया कार्रवाई के बाद पार्टी की भी गिरी गाज

एडीजी ने बताया कि बिना किसी भेदभाव के यह अभियान चलाया जा रहा है। कई ऐसे लाउडस्पीकर हटाए गए हैं, जो बिना अनुमति के धार्मिक स्थलों पर लगाये गए थे। उन्हें उतारने का कार्य किया जा रहा है।

धार्मिक रीति-रिवाजों के दौरान लाउड स्पीकर का इस्तेमाल
विदित हो कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बैठक में कहा था कि किसी भी धर्म के लोग अपनी धार्मिक रीति-रिवाजों के दौरान लाउड स्पीकर का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन उसकी आवाज परिसर के बाहर न जाये, इसका भी ध्यान उनको रखना है। लाउड स्पीकर की आवाज से किसी दूसरे व्यक्ति को कोई परेशानी नहीं होनी चाहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here