एनआईए की कार्रवाई से पीएफआई में हड़कंप, हताशा छिपाने के लिए केरल में बवाल! जानिये, कहां कैसा है हाल

22 सितंबर को एनआईए और अन्य एजेंसियों ने 15 राज्यों में 93 जगहों पर एक साथ छापेमारी की। इस दौरान 106 पीएफआई नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया।

22 सितंबर को एनआईए के नेतृत्व में विभिन्न एजेंसियों विवादास्पद संगठन पोपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कार्यालयों, नेताओं के घरों और अन्य ठिकानों पर छापेमारी की थी। उसके विरोध में पीएफआई ने 23 सितंबर को केरल बंद का आह्वान किया है। इस बंद के बीच राज्य के कई शहरों में हंगामा और तोड़फोड़ होने की घटनाएं घटी हैं।

भाजपा कार्यालय में तोड़फोड़
इस बंद के दौरान केरल के तिरुवनंतपुरम में कार और ऑटो रिक्शा जैसे वाहनों में तोड़फोड़ की गई। साथ ही पुलिस के वाहन पर भी हमले की जानकारी है। इसके साथ ही पीएफआई ने अपने सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद तमिलनाडु के कोयंबटूर में हिंसक विरोध प्रदर्शन किया है। इसके साथ ही भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय में भी हमला किया गया है। इस घटना के बाद भाजपा कार्यालय के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। एनआईए और ईडी की यह छापेमारी पीएफआई की मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग को लेकर की गई थी।

15 राज्यों में 93 स्थानों पर छापेमारी
22 सितंबर को एनआईए और अन्य एजेंसियों ने 15 राज्यों में 93 जगहों पर एक साथ छापेमारी की। इस दौरान 106 पीएफआई नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। केरल में सबसे ज्यादा 22 पीएफआई कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है। इन तमाम घटनाओं के बाद भाजपा की केरल इकाई ने सरकार से पीएफआई के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। पीएफआई द्वारा प्रस्तावित बंद के मद्देनजर केरल पुलिस ने राज्य में सुरक्षा बढ़ा दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here