राजस्थान में पेपर लीक: अब आरोपियों पर होगी ऐसी कार्रवाई की याद रखेंगे

राजस्थान में अभ्यर्थियों को तब बड़ा झटका लगा, जब परीक्षा केंद्र पह पहुंचने पर पता चला कि, उनकी परीक्षा रद्द कर दी गई है।

Rajasthan Public Service Commission

सेकंड ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा में शनिवार की सुबह होने वाला सामान्य ज्ञान का पेपर आउट हो गया। मुखबिर की सूचना पर एसओजी और उदयपुर पुलिस शुक्रवार रात से ही नकल गिरोह पर नजर रख रही थीं। मौका मिलते ही बड़ी कार्रवाई कर पेपर से पहले ही 49 लोगों को हिरासत में ले लिया। प्रश्नों के हूबहू होने की जानकारी सामने पर सुबह 9 बजे पेपर शुरू होते ही निरस्त कर दिया गया। अब यह पेपर 29 जनवरी 2023 को होगा। खबर लिखे जाने तक गिरोह के लोगों को हिरासत में रखकर पूछताछ की जा रही थी। अब राज्य सरकार की ओर से जानकारी सामने आई है कि, पेपर लीक करनेवालों पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी जो इन्हें सदा याद रहेगी।

मिली थी गुप्त सूचना
उदयपुर जिला पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा ने शनिवार शाम को बताया कि शुक्रवार शाम से ही गोपनीय सूचना पुलिस के पास पहुंच चुकी थी कि एक पूरे समूह के पास प्रश्नपत्र पहुंचने वाला है। अभ्यर्थी और मास्टरमाइंड उदयपुर परीक्षा देने पहुंच चुके थे। इन सभी के परीक्षा केन्द्र उदयपुर में थे। हालांकि, पुलिस ने इस बात की भी पुष्टि की कि यदि प्रश्न हूबहू नहीं मिलते हैं तो उन अभ्यर्थियों को परीक्षा केन्द्र पहुंचा दिया जाता, लेकिन प्रश्नों के मिलान से पेपर लीक का मामला खुल गया।

प्रिंसिपल ही मास्टर माइंड
एसपी के अनुसार पुलिस इनसे पर्याप्त दूरी बनाकर लगातार नजर रखे हुए रही। यह सभी लोग एक बस में उदयपुर के सुखेर स्थित एक पेट्रोल पम्प से शुक्रवार शाम को रवाना हुए। वे गोगुन्दा होते हुए सिरोही पहुंचे जहां कुछ देर एक होटल में रुके। इनके पास करीब रात 2 से 3 बजे के बीच पेपर पहुंचा। वहां से ये पुनः उदयपुर के लिए निकले और गाड़ी में ही एक आरोपित मास्टर माइंड सुरेश उन्हें प्रश्नों के उत्तर सॉल्व करवा रहा था। सुरेश पद से प्रिंसिपल बताया जा रहा है। एसपी ने कहा कि सुरेश के बारे में विस्तृत जानकारी पूछताछ के बाद ही सामने आ सकेगी।

पेपर हुआ निरस्त, पकड़े गए अभ्यर्थियों में युवतियां भी
इस बीच, पुलिस ने उदयपुर जिले के बेकरिया थानाक्षेत्र में नाकाबंदी कर शनिवार सुबह बस को रोका और जांच कार्रवाई की। इस कार्रवाई में एसओजी और आरपीएससी के अधिकारियों से भी समन्वय था। प्रश्नों का मिलान होने पर तुरंत पेपर निरस्त करने का निर्णय किया गया और सभी को हिरासत में लेकर उदयपुर पुलिस लाइन में लाया गया। हिरासत में लिए गए अभ्यर्थियों में सात युवतियां भी हैं। प्रेस के सामने लाए जाने पर युवतियों के चेहरे ढंके हुए थे, हालांकि एक छात्रा फफक पड़ी।

ये भी पढ़ें – कोविड-19 रिटर्न्स: इन पांच देशों से आनेवाले यात्रियों को लानी होगी आरटी-पीसीआर रिपोर्ट

नए कानून के अंतर्गत होगी कार्रवाई
एसपी विकास शर्मा ने बताया कि बस मालिक भी इसमें शामिल है, उसे इस कृत्य की पूरी जानकारी थी। एक सवाल के जवाब में एसपी ने यह भी कहा कि अन्य अभ्यर्थियों की पीड़ा वे भी समझ सकते हैं, हालांकि पेपर शुरू होने से पहले निरस्तीकरण के निर्णय से अभ्यर्थियों को उतनी पीड़ा नहीं हुई होगी जितनी पेपर देने के बाद निरस्त होने पर होती है। उन्होंने बताया कि हिरासत में लिए गए अभ्यर्थियों और शातिरों के बीच कुछ राशि का लेन-देन हो चुका है और कुछ राशि का लेन-देन सलेक्शन के बाद होना था। इन सभी के प्रवेश पत्र, आधार कार्ड व आईडी कार्ड पुलिस ने जब्त कर लिए हैं। फिलहाल पूछताछ जारी है और एफआईआर राज्य सरकार द्वारा बनाए गए नए कानून के तहत की जाएगी।

प्रशासन का बयान
आरपीएससी के सचिव हरजी लाल अटल के अनुसार वरिष्ठ अध्यापक प्रतियोगी परीक्षा ग्रुप सी सामान्य ज्ञान प्रश्न- पत्र की परीक्षा स्थगित कर दी गई है। अब यह परीक्षा 29 जनवरी 23 को आयोजित की जाएगी। परीक्षा का विस्तृत कार्यक्रम शीघ्र जारी होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here