पंजाब के खूंखार अपराधियों को एसटीएफ ने किया कोलकाता में ऐसे ढेर

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता का पॉश कॉम्प्लेक्स अचानक गोलियों से गूंजने लगा। यहां पंजाब के दो खूंखार अपराधी छुपे हुए थे।

कोलकाता के न्यू टाउन क्षेत्र के पॉश कॉम्प्लेक्स में अचानक स्पेशल टास्क फोर्स की गतिविधियां तेज हो गई थीं। यहां कॉम्बिंग अपरेशन शुरू था कि अचानक फायरिंग शुरू हो गई। इसकी जवाबी कार्रवाई में एसटीएफ ने बड़ी सफलता प्राप्त की। जिसमें पंजाब के दो खूंखार अपराधियों को मौत के घाट उतार दिया गया।

इस कार्रवाई में मारे गए अपराधियों में से एक का नाम जयपाल सिंह भुल्लर है जबकि दूसरा उसका साथी जस्सी खरार था। यह कार्रवाई दोपहर 3.40 बजे के लगभग हुई थी। इसके एक वीडियो में साफ तौर पर फायरिंग की आवाज सुनी जा सकती है। दोनों अपराधी न्यू टाउन के शापूरजी पालोनजी कॉम्प्लेक्स के एक फ्लैट में छुपे हुए थे।

ये भी पढ़ें – आमदनी का लेखाजोखा: भाजपा की निकल पड़ी, कांग्रेस का खर्च दोगुना… लालू के लाल की हवा हवाई

पुलिस की हत्या करके थे फरार
जयपाल सिंह भुल्लर पर पुलिस कर्मियों की हत्या का था आरोप, यह हत्या लुधियाना में हुई थी
जयपाल पर पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली में 50 से अधिक आपराधिक प्रकरण थे दर्ज
भुल्लर ने कैश वैन से 1.3 करोड़ रुपए लूटे थे
एटीएस से 35 लाख रुपए लूटे थे
लुधियाना से 33 किलोग्राम सोना भी लूटा था
पंजाब में मोस्ट वॉटेड अपराधियों में था
उस पर 10 लाख रुपए का इनाम घोषित था

जस्सी खरार की भी पुलिस को लंबे समय से तलाश थी। उस पर पांच लाख रुपए का इनाम घोषित था।

मिली थी सूचना
स्पेशल टास्क फोर्स को पंजाब पुलिस के दो अधिकारियों की हत्या के मामले की जांच बीच गुप्त सूचना मिली थी कि अवैध हथियार सप्लायर शापूरजी पालोनजी कॉम्प्लेक्स के फ्लैट नंबर पी-154 में छुपे हुए हैं। इसके बाद एसटीएफ ने निवासी इमारत को चारे ओर से घेर लिया। कॉम्बिंग ऑपरेशन में दोनों अपराधियों ने एसटीएफ पर फायरिंग शुरू कर दी, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में जयपाल सिंह भुल्लर और जस्सी खरार मारे गए।

ये भी पढ़ें – जानिये, नुसरत जहां और निखिल जैन की शादी से अलगाव तक की पूरी कहानी!

ऑपरेशन ‘जैक’ किया था लॉच
जयपाल सिंह और उसके गिरोह ने लुधियाना के जगरांव की अनाज मंडी में दो सहायक पुलिस निरीक्षक भगवान सिंह और दलविंदरजीत सिंह की हत्या कर दी थी। यह घटना 15 मई को हुई थी। इसके पहले 10 मई को एक और सहायक पुलिस निरीक्षक पर चंडीगढ़ के चेक पॉइंट पर हमला हुआ था। इसके बाद पंजाब पुलिस की संगठित अपराध नियंत्रण यूनिट ने अपराधियों के विरुद्ध ऑपरेशन शुरू किया जिसका नाम दिया ‘ऑपरेशन जैक’।

ऐसे लगा सुराग
पुलिस कर्मियों की हत्या के प्रकरण की जांच में पंजाब पुलिस की विशेष शाखा ने ग्वालियर से चार लोगों को गिरफ्तार किया। इसमें से दो लोग पुलिस कर्मियों की हत्या में शामिल थे। इसके साथ ही सीसीटीवी फुटेज के आधार पर काली होंडा अकॉर्ड कार बरामद की गई, जो पश्चिम बंगाल के किसी व्यक्ति की थी। यहीं से एसटीएफ को जयपालसिंह भुल्लर का सुराग लगा कि वह न्यू टाउन क्षेत्र में रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here