रूसी मिसाइलों के हमलों से यूक्रेन में बिजली और पानी का संकट, प्रमुख शहरों में बुनियादी ढांचे तबाह

कीव के कई हिस्सों में तडक़े धमाकों की तेज आवाजें सुनी गईं। सुबह-सुबह आपातकालीन विभाग की ओर से मिसाइल हमलों के बारे में चेतावनी वाले संदेश जारी किया गया।

यूक्रेन की राजधानी कीव समेत कई प्रमुख शहरों में पानी और बिजली का संकट पैदा हो गया है। यह संकट यूक्रेन के बुनियादी ढांचों पर सोमवार को रूसी मिसाइलों के भारी हमले के बाद हुआ है। यूक्रेन के अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

रूस के इन हमलों को यूक्रेन द्वारा कथित तौर पर इस सप्ताहांत काला सागर में रूसी बेड़े पर किए गए ड्रोन को लेकर जवाबी कार्वाई के रूप में देखा जा रहा है। यूक्रेन ने इन हमलों के आरोपों से इनकार किया है।

यूक्रेन की राजधानी कीव के कई हिस्सों में तडक़े धमाकों की तेज आवाजें सुनी गईं। सुबह-सुबह आपातकालीन विभाग की ओर से मिसाइल हमलों के बारे में चेतावनी वाले संदेश जारी किया गया। शहर में इस दौरान करीब तीन घंटे तक हवाई हमलों के खतरे के सायरन बजते रहे।

कीव के मेयर वितोली कलितस्चको ने बताया कि हमलों के कारण यूक्रेन की राजधानी के एक हिस्से में बिजली व पानी की आपूर्ति ठप है। उन्होंने कहा कि कीव में रहने वाले करीब 80 फीसदी लोगों को पानी की आपूर्ति बाधित हुई है। लोगों को निकटतम पंप रूम और बिक्री केंद्रों से पानी खरीद कर भंडारण करने के लिए कहा गया है।

कलितस्चको ने कहा कि शहर के करीब साढ़े तीन लाख घरों में बिजली की आपूर्ति करने वाले संयंत्र को ठीक करने के लिए स्थानीय अधिकारी जुटे हुए हैं।

उन्होंने टेलीग्राम पर एक पोस्ट में कहा कि कीव के कुछ इलाकों में तीन से चार घंटों के भीतर पानी की आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी। यूक्रेन के प्रति समर्थन जताने के लिए चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री पेट्र फिआला, विदेश, रक्षा और आंतरिक मंत्रियों सहित उनकी सरकार के कई शीर्ष अधिकारियों के कीव पहुंचने से ठीक पहले यह हमले हुए।

यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने कहा कि लड़ाई के दौरान रूस द्वारा आम नागरिकों को निशाना बनाकर ऐसे मिसाइल हमले करने का कोई औचित्य नहीं है। उन्होंने ट्वीट किया, इन हमलों को प्रतिक्रिया कहकर उचित न ठहराएं। रूस ऐसा इसलिए करता है क्योंकि उसके पास अभी भी मिसाइलें हैं और वह यूक्रेन के लोगों को मारने की इच्छाशक्ति रखता है।

कीव के उत्तर में बड़ी संख्या में सैनिकों को तैनात किया गया है। नीपर नदी के बाएं किनारे वाले इलाके से धुआं उठ रहा था।

अधिकारियों ने जापोरिज्जिया में भी हमलों की वजह से बिजली आपूर्ति ठप होने की आशंका जताई है। कीव के दक्षिण-पूर्व में चर्कासी क्षेत्र में महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे पर भी हमले किए गए। यूक्रेन के अन्य क्षेत्रों में भी विस्फोट होने की सूचना मिली थी।

स्थानीय अधिकारियों के अनुसार मध्य यूक्रेन के किरोवोहद क्षेत्र में भी बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई।

क्षेत्रीय गवर्नर सेरही बोरज़ोव के अनुसार विन्नित्सिया में एक रूसी मिसाइल को मार गिराया गया। यह मिसाइल रिहायशी इलाकों पर गिरी, जिसके परिणामस्वरूप इमारतों को क्षति हुई लेकिन कोई हताहत नहीं हुआ। यूक्रेनी रेलवे के कुछ हिस्सों को भी बिजली की आपूर्ति बाधित हुई।

ये भी पढ़ें – जाने लें, मुंबई समेत इन क्षेत्रों में अगले दस दिन रहेगी पानी कटौती

यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय के प्रमुख एंड्री यरमक ने सोमवार के हमलों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि रूसी सेना नागरिक सुविधाओं को निशाना बनाकर हमले कर रही है और लड़ाई जारी रख रही है। हम मजबूती के साथ डटे रहेंगे और रूस की आने वाली पीढय़िों को इन हमलों की कीमत चुकानी होगी।

यूक्रेन की वायु सेना ने कहा कि 50 से अधिक क्रूज मिसाइलों को कैस्पियन सागर के उत्तर से और रोस्तोव क्षेत्र में रूसी शहर वोल्गोडोंस्क के आसपास के क्षेत्र से टीयू-95, टीयू-160 मिसाइल ले जाने वाले युद्धक विमान से दागा गया था। उनमें से कुल 44 मिसाइलों को मार गिराया गया था। रूसी सेना ने अभी तक इन हमलों को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here