परमबीर सिंह पर वो आरोप झूठे? हफ्ता वसूली प्रकरण में ‘आतंकी’ एंट्री

आईपीएस अधिकारी परमबीर सिंह के खिलाफ दर्ज मामले में ऑडियो क्लिप साजिश का खुलासा करने में साक्ष्य का काम करे सकती है।

“मैं भाई के घर बोल रहा हूं, तेरे को इधर फ्रॉम कराची से ही रॉकेट मारुंगा” ये एक आतंकी के बोल हैं, जिसके द्वारा ये धमकी मीरा भाइंदर के बिल्डर को दी गई थी। इसके बाद वहीं के एक बिल्डर के खिलाफ धमकी दिलाने की शिकायत भी दर्ज हुई थी। परंतु, दांव पेंच ऐसे हैं कि शिकायकर्ता ही जेल पहुंच गया।

मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह और क्राइम ब्रांच के अन्य पुलिस अधिकारियों और दो व्यवसाईयों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। जिसे श्याम सुंदर अग्रवाल नामक एक बिल्डर ने दर्ज कराया है। इस प्रकरण में संजय पुनमिया और सुनील जैन समेत दो लोगों की गिरफ्तारी भी हो गई है। लेकिन इस प्रकरण में खुलासा ये हुआ है कि श्याम सुंदर अग्रवाल ने पहले संजय पुनमिया को पाकिस्तान में बैठे भारत के दुश्मन और आतंकवादी दाऊद इब्राहिम के गुर्गे से धमकी दिलवाई थी। जिसकी ऑडियो क्लिप की जांच एसआईटी कर रही है। आतंकी दाऊद के गुर्गे छोटा शकील से धमकी का प्रकरण नवंबर-दिसंबर 2016 का है। इसके बाद नवबंर 2020 में दूसरी बार धमकी दी गई थी।

ये भी पढ़ें – गोगरा हाइट्स पर भारत-चीन में बनी ऐसी सहमति!

ये है प्रकरण
मरीन ड्राइव पुलिस थाने में श्याम सुंदर अग्रवाल नामक एक बिल्डर ने धन उगाही का एक मामला दर्ज करवाया था। इसमें मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह, क्राइम ब्रांच के उपायुक्त अकबर पठान, सहायक पुलिस आयुक्त श्रीकांत शिंदे, एक अन्य अधिकारी और संजय पुनमिया, सुनील जैन समेत आठ लोगों का नाम था।

दरअसल, यह प्रकरण जुहू पुलिस थाने में श्याम सुंदर अग्रवाल के विरुद्ध दर्ज प्रकरण से संबद्ध है। दाऊद के गुर्गों से धमकी दिलाने के मामले में श्याम सुंदर अग्रवाल पर मकोका के अंतर्गत कार्रवाई हो सकती थी। इस कार्रवाई को टालने के लिए आरोप है कि पुलिस वालों ने पैसे की मांग की थी। जिसके साक्ष्य देकर श्याम अग्रवाल ने मरीन ड्राइव पुलिस थाने में प्रकरण दर्ज करवाया।

विशेष जांच दल कर रहा जांच
इस प्रकरण की जांच विशेष जांच दल कर रहा है। उसके हाथ इस ऑडियो क्लिप के जांच की जिम्मेदारी है। मकोका न्यायालय में चल रहे ऑडियो का अब मिलान किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here