नई दिल्लीः नेशनल लेवल का पहलवान ‘इस’ मामले में गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने 2019 के एक मामले में एक पहलवान को गिरफ्तार किया है। वह काफी समय से फरार चल रहा था।

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने एक नेशनल लेवल के पहलवान को गिरफ्तार किया है। आरोपित दुष्कर्म और पॉक्सो के एक मामले में वर्ष 2019 से फरार चल रहा था। कोर्ट ने इसे भगोड़ा घोषित किया हुआ था। पकड़े गए आरोपित की पहचान जय विहार, दिल्ली निवासी नरेश सहरावत उर्फ सोनू उर्फ पहलवान (38) के रूप में हुई है। नरेश कई बार दिल्ली का चैंपियन रह चुका है।

आरोपित के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण, मकोका और दुष्कर्म व पॉक्सो समेत कुल सात आपराधिक मामले दर्ज हैं। वर्ष 2012 में डीडीयू अस्पताल से नरेश पुलिस कस्टडी से भी फरार हो गया था। जांच के दौरान पुलिस को पता चला है कि नरेश गैंगस्टर नीतू दाबोदिया का बेहद करीबी है। ओलंपियन पहलवाल सुशील कुमार के साथ वह छात्रसाल स्टेडियम में एक ही अखाड़े में अभ्यास करता था। पुलिस उससे पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है।

अपराध शाखा के विशेष आयुक्त ने दी जानकारी
-अपराध शाखा के विशेष आयुक्त रविंद्र सिंह यादव ने 29 दिसंबर को बताया कि अगस्त 2019 में नरेश और उसके साले मंजीत ने छावला इलाके से 16 वर्षीय किशोरी को अगवा कर उसके साथ दुष्कर्म किया था। इस संबंध में पुलिस ने दुष्कर्म व पॉक्सो का मामला दर्ज कर मंजीत को गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन आरोपित नरेश लगातार पुलिस को चकमा दे रहा था। लोकल पुलिस के अलावा अपराध शाखा की टीम भी नरेश की तलाश कर रही थी।

-इस दौरान पुलिस टीम को पता चला कि आरोपित नजफगढ़ इलाके में आने वाला है। सूचना को पुख्ता कर टीम ने मौके पर जाल बिछा दिया। आरोपित वहां पहुंचा तो पुलिस ने उसे काबू करने का प्रयास किया। लेकिन अपने पहलवानी के गुर आरोपित पुलिस को दिखाने लगा। खूब नोंकझोंक के बाद आरोपित को काबू कर लिया गया।

-कई बार दिल्ली के चैंपियन रहे नरेश ने वर्ष 2006 में अपराध की दुनिया में कदम रखा। नरेश ने गैंग अमित उर्फ बबलू, नीतू दाबोदिया समेत बाकी लोगों से हाथ मिला लिया। इन लोगों ने सुपारी लेकर बवाना में जय प्रकाश उर्फ पहलवान की हत्या कर दी। नरेश व अन्यों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ। इसके बाद बहादुरगढ़ में पंचायत के दौरान भी गोली चला दी। बाद में वर्ष 2009 में नरेला थाने में इन सभी के खिलाफ मकोका का मामला दर्ज किया गया।

-पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। न्यायिक हिरासत के दौरान आरोपित को डीडीयू अस्पताल लाया गया था। यहां से वह वर्ष 2012 में पुलिस कस्टडी से फरार हो गया। लेकिन में आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया था। अब वर्ष 2019 से पुलिस को आरोपित नरेश की तलाश था। पुलिस की कई टीमें उससे पूछताछ कर मामले की छानबीन कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here