मूसेवाला हत्याकांड : इस देश में पकड़ा गया गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का भांजा सचिन

सचिन अपने एक अन्य साथी अनमोल विश्नोई के साथ फर्जी पासपोर्ट पर विदेश भाग गया था।

 भारत के प्रसिद्ध पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के तार विदेश से जुड़ते नजर आ रहे हैं। इस हत्याकांड के मास्टरमाइंड गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के भांजे सचिन को अजरबैजान में गिरफ्तार किया गया है। अब भारत की पुलिस उसके प्रत्यर्पण की प्रक्रिया पूरी करके भारत ले जाएगी। सचिन के पास से फर्जी पासपोर्ट भी बरामद किया गया है।

प्रसिद्ध पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या बीती 29 मई को भारत के पंजाब प्रांत में कर दी गयी थी। हालांकि पंजाबी गायक की हत्या के समय गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद थी लेकिन पुलिस ने कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में लारेंस विश्नोई को इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड बताया है। गैंग के सरगना लारेंस विश्नोई के भांजे सचिन विश्नोई ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या करने का दावा किया था।

फर्जी पासपोर्ट पर भाग गया था विदेश
इसके बाद सचिन अपने एक अन्य साथी अनमोल विश्नोई के साथ फर्जी पासपोर्ट पर विदेश भाग गया था। अब सचिन विश्नोई को अजरबैजान में गिरफ्तार कर लिया गया था। दूसरे भगोड़े आरोपित अनमोल विश्नोई के केन्या में होने की जानकारी सामने आ रही है। अजरबैजान में सचिन विश्नोई की गिरफ्तारी के बाद भारत की ओर से उसके प्रत्यर्पण की तैयारी शुरू कर दी गयी है।

होगा बड़ा पर्दाफाश
माना जा रहा है कि जल्द ही उसे अजरबैजान से भारत ले जाया जाएगा। सचिन बिश्नोई की गिरफ्तारी से मूसेवाला मर्डर केस में बड़ी साजिश का पर्दाफाश होने की उम्मीद है। गैंग के निशाने और कौन-कौन लोग हैं इसका भी खुलासा होगा। जांच एजेंसियों को इस बात की आशंका है कि पंजाबी गायक मूसेवाला की हत्या को अंजाम देने की जानकारी सचिन बिश्नोई को भी पहले से थी। कहा जाता है कि सचिन बिश्नोई ही लॉरेंस बिश्नोई गैंग को विदेशों से चलाता है।

यह भी पढ़ें- सभी राज्य बोर्ड स्कूलों में लागू होगा समान पाठ्यक्रम? दिल्ली उच्च न्यायालय में होगी सुनवाई

पासपोर्ट बरामद
जानकारी के मुताबिक सचिन के पास से फर्जी पासपोर्ट भी बरामद किया गया है। सचिन अपना पूरा नाम सचिन थापन लिखता है, जबकि उसके पास से मिले पासपोर्ट पर तिलक राज टूटेजा नाम लिखा है। सचिन के पिता का असली नाम शिव दत्त है, जबकि फर्जी पासपोर्ट में उसके पिता का नाम भीम सेन लिखा हुआ है। इतना ही नहीं उसका असली पता वीपीओ दतारियां वाली, जिला फजिल्का है, जबकि फर्जी पासपोर्ट पर उसका पता मकान नंबर 330, ब्लॉक एफ-3, संगम विहार, दिल्ली दर्ज है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here