राउत को राहत नहीं, इस तिथि तक बढ़ाई गई न्यायिक हिरासत

न्यायिक हिरासत की अवधी खत्म होने के बाद 23 अगस्त को संजय राउत को ईडी न्यायालय में पेश किया गया।

शिवसेना सांसद संजय राउत को राहत नहीं मिली है। उनकी न्यायिक हिरासत एक बार फिर बढ़ा दी गई है। ईडी न्यायालय ने उनकी न्यायिक हिरासत 5 सितंबर तक बढ़ा दी है, यानी वे पांच सितंबर तक जेल में रहेंगे।

हिरासत की अवधी खत्म होने के बाद 23 अगस्त को संजय राउत को मुंबई ईडी न्यायालय में पेश किया गया। वहां उनकी न्यायिक हिरासत पांच सितंबर तक बढ़ा दी गई। फिलहाल उन्हें ऑर्थर रोड जेल में रखा गया है। इसी जेल में वसूली मामले में गिरफ्तार पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को भी रखा गया है। उन पर गोरेगांव स्थित पत्राचाल जमीन घोटाले का आरोप है।

यह है मामला
पत्राचाल गोरेगांव, मुंबई में स्थित है। यहां घोटाला तब शुरू हुआ, जब सरकार ने चाल में रहने वाले 672 किराएदारों को फ्लैट देने की योजना बनाई। इसके लिए महाराष्ट्र हाउसिंग एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ने एचडीआईएल के गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन को ठेका दिया। गुरु आशीष कंपनी चाल में किराएदारों को 672 फ्लैट और एमएचडीए को 3000 फ्लैट देने वाली थी। यह घोटाला 1,034 करोड़ रुपये का है। 2010 में कंपनी के निदेशक प्रवीण राउत ने गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी में एचडीआईएल को 258 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी। उसके बाद 2011, 2012 और 2013 में भूखंड के कई हिस्सों को अन्य निजी डेवलपर्स को स्थानांतरित कर दिया।

क्या है पत्राचाल घोटाला?
प्रवीण राउत शिवसेना सांसद संजय राऊत के करीबी हैं। प्रवीण राउत पर राकेश वधावन के साथ मिलकर पत्राचाल पुनर्विकास परियोजना में घोटाला करने का संदेह है। इस मामले में प्रवीण राउत को गिरफ्तार कर रिहा कर दिया गया था। उसके बाद फिर 2 फरवरी 2022 को प्रवीण राउत को गिरफ्तार कर लिया गया। इस संबंध में की गई जांच में ईडी को शक है कि इस घोटाले के पैसे का इस्तेमाल अलीबाग में संपत्ति खरीदने के लिए किया गया। ईडी ने राउत को इस संबंध में पूछताछ के लिए तीन बार तलब किया था। लेकिन वे दो बार पूछताछ के लिए उपलब्ध नहीं हुए।

ईडी नौ फ्लैट कर चुकी है जब्त
ईडी पहले ही 9 फ्लैटों को जब्त कर चुकी है। इस साल अप्रैल महीने में ईडी ने इस मामले में अलीबाग में संजय राउत के 8 और मुंबई में एक फ्लैट को जब्त किया था। ईडी इस मामले में 11 करोड़ 15 लाख 56 हजार 573 रुपये की अचल संपत्ति जब्त कर चुकी है। गोरेगांव में पत्राचाल पुनर्विकास परियोजना में मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट 2022 के तहत, यह कार्रवाई गुरु-आशीष कंस्ट्रक्शन्स द्वारा किए गए वित्तीय घोटाले के संबंध में की गई है। गुरु-आशीष कंस्ट्रक्शन के पूर्व निदेशक प्रवीण राउत के पास दादर में वर्षा राउत (संजय राउत की पत्नी) के फ्लैट और अलीबाग में समुद्र के किनारे के साथ-साथ वर्षा राउत और स्वप्ना पाटकर (सुजीत पाटकर की पत्नी) के स्वामित्व वाली जमीन है। अलीबाग में खरीदे गए प्लॉट की कीमत करीब 60 लाख बताई जा रही है। आरोप यह भी है कि स्थानीय लोगों को धमकाकर इन भूखंडों को कम कीमत पर खरीदा गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here