मध्य रेल ने 36.28 लाख मामलों में वसूला इतने करोड़ का जुर्माना

मध्य रेल बिना टिकट और अनियमित यात्रा पर अंकुश लगाने के लिए अपने सभी मंडलों में उपनगरीय, मेल एक्सप्रेस, यात्री सेवाओं, विशेष ट्रेनों में गहन टिकट चेकिंग अभियान चलाता है।

मध्य रेल ने बिना टिकट व अनधिकृत यात्रा के 36.28 लाख मामलों में कार्रवाई करते हुए वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-दिसंबर) में 238.72 करोड़ रुपये का राजस्व दर्ज किया गया, जो गत वर्ष 2021-22 के इसी अवधि के अर्जित 146.04 करोड़ रुपये से 63.46% अधिक है।

मध्य रेल मुंबई मंडल मिली जानकारी के अनुसार, मध्य रेल बिना टिकट और अनियमित यात्रा पर अंकुश लगाने के लिए अपने सभी मंडलों में उपनगरीय, मेल एक्सप्रेस, यात्री सेवाओं, विशेष ट्रेनों में गहन टिकट चेकिंग अभियान चलाता है।

अब तक का सबसे अधिक जुर्माना
मध्य रेल द्वारा वित्तीय वर्ष 2022-23 (अप्रैल-दिसंबर) में अर्जित 238.72 करोड़ रुपये भारतीय रेल के किसी भी जोन से अर्जित टिकट चेकिंग से अब तक का सबसे अधिक है। उल्लेखनीय है कि मध्य रेल का 238.72 करोड़ रुपये का राजस्व केवल 9 महीने में अर्जित किया गया है, जबकि अब तक का सर्वाधिक राजस्व मध्य रेल का 214.14 करोड़ पूरे वित्तीय वर्ष 2021-22 में किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here