जहांगीरपुरी में फिर हिंसा, लहराई तलवारें… जानिये क्या है कारण?

डीसीपी उषा रंगनानी ने बताया कि दो-तीन पहले जहांगीरपुरी निवासी मोहम्मद शुएब और मोहम्मद समीर नामक लड़कों का मोहम्मद जहीर व मोहम्मद मुन्ना नामक युवकों से झगड़ा हुआ था। इस झगड़े के बाद मंगलवार शाम को जहीर व मुन्ना अपने दोस्तों के साथ इलाके में पहुंचे थे।

हनुमान जयंती के दिन उत्तर पश्चिमी जिले के जहांगीरपुरी इलाके में हुई हिंसा की यादें एक बार फिर ताजा हो गईं। मंगलवार देर रात जहांगारपुरी के आई-ब्लॉक में शराब के नशे में धुत लड़कों के एक समूह ने खूब बवाल काटा। हाथों में तलवार लिये लड़के इलाके में कुछ अन्य लड़कों की तलाश में पहुंचे थे। जब वह नहीं मिले तो इन लोगों ने गली में खड़ी तीन कारों पर पथराव कर उन्हें क्षतिग्रस्त किया।

यह भी पढ़ें – मूसेवाला की अंतिम अरदास में उमड़ी लोगों की भीड़! पिता हुए भावुक, बेटे के लिए कही ये बात

स्थानीय लोगों ने दावा किया कि लड़के ने कारों पर तलवारें भी मारी। काफी देर हंगामा और शोर-शराबा करने के बाद आरोपित वहां से फरार हो गए। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। कुछ शरारती तत्वों ने घटना को सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास किया। खुद डीसीपी उषा रंगनानी मौके पर पहुंची। उन्होंने घटना के सांप्रदायिक झगड़े की बात से साफ इंकार किया।उनका कहना था कि दोनों ही गुट एक समुदाय से संबंध रखते हैं। दो-तीन दिन पहले हुए झगड़े का बदला लेने के लिए एक गुट इलाके में पहुंचा था। पुलिस ने तुरंत कार्रवाई कर पांच लड़कों को दबोच लिया। इनमें तीन को गिरफ्तार किया गया है जबकि दो नाबालिगों को हिरासत में लिया गया है। बाकी अन्यों की तलाश की जा रही है। पुलिस ने महेंद्र पार्क थाने में बलवा करने का मामला दर्ज कर लिया है। सीसीटीवी फुटेज के अलावा स्थानीय लोगों के बयान लेकर मामले की जांच की जा रही है।
पुलिस के अनुसार बवाल मंगलवार रात करीब 10.15 बजे जहांगीरपुरी के आई-ब्लॉक, गली नंबर-1500 में हुआ। देर रात खाना खाकर स्थानीय लोग गली में टहल रहे थे। इस बीच करीब दर्जनभर युवक हाथों में तलवार और डंडे लिये हुए गली में पहुंचे।

इनमें कई लड़के नशे की हालत में थे। यहां पहुंचते ही आरोपियों ने हंगामा शुरू कर दिया। यह लोग एरिया में रहने वाले मोहम्मद शुएब और मोहम्मद समीर व इनके गुट के बाकी लड़कों की तलाश में आए थे। लड़के चिल्ला-चिल्लाकर इनका नाम लेकर ढूंढ रहे थे।हंगामें के दौरान लड़कों ने गली में खड़ी गाड़ियों को पत्थर फेंककर तोड़ दिया। इन लोगों ने कारों पर तलवारें भी मारी। काफी 15 से 20 मिनट हंगामा कर आरोपित फरार हो गए। देर रात करीब 10.45 बजे मामले की सूचना पुलिस को दी गई। मामले की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई।

इस बीच कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर एक फिर जहांगीरपुरी में सांप्रदायिक दंगा होने की अफवाह फैलानी शुरू कर दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने तुरंत मोर्चा संभालकर जांच शुरू कर दी। करीब दर्जनभर से अधिक सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को कब्जे में लेकर तीन लड़कों जहीर (20), विशाल उर्फ करंट (18) और वीरू (18) को गिरफ्तार कर लिया जबकि दो नाबालिग को हिरासत में लिया गया है।

डीसीपी उषा रंगनानी ने बताया कि दो-तीन पहले जहांगीरपुरी निवासी मोहम्मद शुएब और मोहम्मद समीर नामक लड़कों का मोहम्मद जहीर व मोहम्मद मुन्ना नामक युवकों से झगड़ा हुआ था। इस झगड़े के बाद मंगलवार शाम को जहीर व मुन्ना अपने दोस्तों के साथ इलाके में पहुंचे थे। इन लोगों ने ही हंगामा किया। बवाल सांप्रदायिक न होकर दो गुटों के बीच का था। दोनों गुट भी एक ही समुदाय के थे।

पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की मदद से आरोपियों की पहचान की है। इन लड़कों की तलाश में छापेमारी की जा रही है। फिलहाल एहतियात के तौर पर एरिया में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। हालात पर नजर रखने के लिए सादे कपड़ों में भी पुलिस कर्मियों को पूरे जहांगीरपुरी में तैनात कर दिया गया है। इस बात पर नजर रखी जा रही है कि कहीं शरारती तत्व इस झगड़े को कोई और रंग न देने का प्रयास करें। खुद दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी पूरे हालात पर नजर रखे हुए हैं।

15-20 दिन में हो ही जाता है इस तरह का बवाल
जहांगीरपुरी इलाके के आई-ब्लॉक में मंगलवार रात हुई घटना के बाद स्थानीय लोगों में खासा रोष है। स्थानीय लोगों का कहना था कि कम उम्र के लड़के अपना वर्चस्व कायम करने के लिए अक्सर इस तरह की वारदातों को अंजाम देते रहते हैं। जहांगीरपुरी एरिया में बसीं झुग्गि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here