महाराष्ट्रः लव जिहाद कानून के लिए अब ‘हिंदू जन संघर्ष मोर्चा’

लव जिहाद और धर्मांतरण के खिलाफ 21 को नागपुर विधानमंडल पर मोर्चे का आयोजन किया गया है।

महाराष्ट्र की हिंदू लड़की श्रद्धा वालकर के 35 टुकड़े किए जाने के बाद झारखंड राज्य की हिंदू लड़की रबिका के 12 टुकड़े किए जाने की घटना सामने आई है। ऐसी एक-दो नहीं बल्कि कई घटनाएं पहले भी हो चुकी हैं। देश में उत्पीड़न, बल और छल से हिंदुओं का बढ़ता धर्मांतरण राष्ट्र के लिए खतरनाक हो सकता है। इस देशद्रोही ‘धर्मांतरण’ और ‘लव जिहाद’ को रोकने के लिए, हिंदू जनजागृति समिति, सभी हिंदू संगठनों और समाज की ओर से 21 दिसंबर को नागपुर विधान भवन पर राज्य स्तरीय ‘हिंदू जन संघर्ष मोर्चा’ निकाला जाएगा।

हिन्दू जनजागृति समिति के महाराष्ट्र एवं छत्तीसगढ़ संयोजक सुनील घनवट ने बताया कि लव जिहाद कानून बनना जरूरी है।

 हिंदुओं द्वारा शक्ति का प्रदर्शन
इस संबंध में नागपुर के ‘अखिल भारतीय माहेश्वरी समाज भवन’ में हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से आयोजित द्वितीय बैठक श्री शिव प्रतिष्ठान हिन्दुस्तान, अखिल भारतीय ब्राह्मण महासंघ, राजपूत करणी सेना, राष्ट्रीय युवा गठबंधन, पुरोहित संघ, सनातन संस्था, बजरंग दल के नेता मौजूद थे। इस अवसर पर विदर्भ में मोर्चा के संबंध में किए जा रहे प्रचार एवं जागरूकता अभियान की समीक्षा प्रस्तुत की गई। साथ ही इस मार्च के माध्यम से हिंदुओं की ताकत दिखाने के लिए सभी ने ‘अभी नहीं, तो कभी नहीं’ का संकल्प लेकर अधिक से अधिक हिंदुओं तक पहुंचने का संकल्प लिया है। हर संगठन ऐसी बैठकें कर रहा है।

हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया
नागपुर में कुछ प्रमुख भीड़भाड़ वाले स्थानों पर ‘सेल्फ़ी पॉइंट’ स्थापित किए गए हैं। इसकी भी आलोचना की गई। पोस्टर में  लिखा गया है, ‘ लव जिहाद और धर्मांतरण के ख़िलाफ़ मोर्चा में भाग ले रहा हूं, आप भी लें!’ युवा यहां आकर अपनी सेल्फी और वीडियो रिकॉर्ड कर व्हाट्सएप, ट्विटर, फेसबुक आदि सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हैं। इस अभिनव पहल के माध्यम से हजारों लोगों में जागरूकता पैदा की जा रही है। लव जिहाद और धर्मांतरण विरोधी कानून की मांग को लेकर हस्ताक्षर अभियान भी चलाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here