महाराष्ट्र की ये ‘लेडी सिंघम’ लाएगी मेहुल चोकसी को!

मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए भारतीय सुरक्षा एजेंसियां प्रयत्नशील हैं। लगभग 14 हजार करोड़ रुपए के इस घपले में चोकसी के साथ उसका भांजा नीरव मोदी भी प्रमुख अभियुक्त हैं।

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के फरार आरोपी मेहुल चोकसी को डोमिनिका से भारत लाने की तैयारी में सुरक्षा एजेंसियां लगी हुई है। इसके लिए सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन का एक दल डोमिनिका गया है, जिसका नेतृत्व डीसीपी शारदा राऊत कर रही हैं।

शारदा राऊत पर वर्तमान में सीबीआई के आर्थिक अपराध शाखा की जिम्मेदारी है। इसके कारण पंजाब नेशनल बैंक घपले की जांच उनके जिम्मे है। इस प्रकरण में मुख्य आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी हैं। उसके प्रत्यर्पण को लेकर डोमिनिका की न्यायालय में सुनवाई हो रही है। इसके लिए भारत से सीबीआई का आठ सदस्यीय दल डोमिनिका गया हुआ है। इस दल के साथ शारदा राऊत हैं।

ये भी पढ़ें – हमारा संकल्प आत्मनिर्भर भारत, सशक्त भारत! जानिये, पीएम ने सीएसआईआर की बैठक में और क्या कहा

डोमिनिका में किया गया था गिरफ्तार
हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को हाल ही में डोमिनिका में गिरफ्तार किया गया था। वह 23 मई को एंटीगुआ से फरार हो गया था। उसके दो दिन बाद उसे डोमिनिका में पकड़ लिया गया था। भारत में वह पंजाब नेशनल बैंक के करीब 14 हजार करोड़ के घोटाले के आरोपियों में शामिल है। चोकसी को भारत लाने के लिए त्रिनिदाद और टोबैगो के भारतीय उच्चायोग के अधिकारी भी प्रयत्न कर रहे हैं।

खास बातें
पीएनबी घोटाले के तहत चोकसी के भांजे नीरव मोदी और मेहुल चोकसी पर 14 हजार करोड़ रुपए के गबन का आरोप है। यह मामला 2018 की शुरुआत में सामने आया था।

इस घोटाले में हीरा व्यापारी नीरव मोदी के साथ ही उसकी पत्नी ऐमी, भाई निशाल और उसका मामा मेहुल चोकसी मुख्य अभियुक्त हैं।

मेहुल चोकसी को 15 जनवरी 2018 को एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता मिल गई थी।

17 जून को चोकसी ने बॉम्बे हाई कोर्ट में हलफनामा दायर कर पीएनबी घोटाल में सहयोग करने की इच्छा जताई थी।

इसे मराठी में पढ़ें – घोटाळेबाज मेहुल चोक्सीला भारतात आणणार ‘या’ लेडी सिंघम

महाराष्ट्र पुलिस की लेडी सिंघम
शारदा राऊत महाराष्ट्र पुलिस की लेडी सिंघम के रूप में जानी जाती हैं।

वे 2005 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं, नासिक और पालघर जिले की पुलिस अधीक्षक रह चुकी हैं।

पालघर में अपराध नियंत्रण पर उन्होंने अच्छा कार्य किया था।

मुंबई स्थानांतरण के बाद पुलिस उपायुक्त के रूप में उन्होंने पुलिस मुख्यालय की जिम्मेदारी संभाली थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here