कश्मीर में शिकंजे में 12 से अधिक आतंकी और उनके मददगार! जानें, किन कुख्यात संगठनों से जुड़े हैं तार

पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया कि सभी पुलिस अधिकारियों व अन्य सुरक्षा एजेंसियों को स्पष्ट निर्देश है कि पाकिस्तान या किसी अन्य मुल्क में बैठे किसी भी आतंकी कमांडर या किसी अन्य राष्ट्रविरोधी तत्व के साथ संपर्क रखने वालों के खिलाफ संबंधित कानून के तहत कठोर कार्रवाई की जाए।

आतंक पर प्रहार तेज करते हुए पुलिस ने पिछले 48 घंटों के दौरान एक दर्जन आतंकियों और उनके मददगारों को गिरफ्तार किया है। यह गिरफ्तारियां जम्मू संभाग के जिला कठुआ से लेकर कश्मीर घाटी की नियंत्रण रेखा के साथ सटे जिला कुपवाड़ा में चलाए जा रहे अभियान के तहत हुई हैं। पकड़े गए सभी आतंकी व उनके मददगार गुलाम कश्मीर में बैठे आतंकी कमांडरों के साथ लगातार संपर्क में थे।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में सक्रिय आतंकियों के ओवरग्राउंड वर्करों, मददगारों और समर्थकों को चिन्हित किया जा रहा है। इनमें से कई प्रदेश में सक्रिय आतंकियों के साथ भी लगातार संपर्क में हैं। उन्होंने बताया कि टारगेट किलिंग्स की विभिन्न वारदातों की जांच के दौरान पता चला है कि पाकिस्तान में बैठे आतंकी सरगना इन वारदातों के लिए नए आतंकियों को ही इस्तेमाल करने को प्राथमिकता दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें – श्रीलंका के लिए आगामी तीन सप्ताह बेहद कठिन, प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे ने नागरिकों से की ये अपील!

आतंकी और उनके मददगार गिरफ्तार
उन्होंने बताया कि बीते 48 घंटों के दौरान पुलिस ने पूरे प्रदेश में विभिन्न जगहों पर दबिश देते हुए एक दर्जन से ज्यादा आतंकियों व उनके मददगारों को गिरफ्तार किया है। यह गिरफ्तारियां श्रीनगर, बारामुला, कुलगाम, अनंतनाग, जम्मू, रामबन, उधमपुर और कठुआ में हुई हैं। पकड़े गए सभी प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से आतंकी और राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त थे।

इन आतंकी संगठनों से जुड़े हैं तार
यह सभी लोग पाकिस्तान में बैठे आतंकी सज्जाद गुल, आशिक नेंगरु और अर्जमंद गुलजार के अलावा कुछ और अन्य आतंकियों के साथ इंटरनेट मीडिया व अन्य माध्यमों के जरिए लगातार संपर्क में थे। यह पाकिस्तान में बैठे आतंकियों के इशारे पर प्रदेश में कई जगह लड़कों को धर्म के नाम पर आतंकी गतिविधियों के लिए उकसा उन्हें आतंकी गुटों में भर्ती करने के अलावा विभिन्न आतंकी गतिविधियों को भी अंजाम देने में शामिल कर रहे थे।

जीरो टालरेंस की पॉलिसी पर अमल
पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने बताया कि सभी पुलिस अधिकारियों व अन्य सुरक्षा एजेंसियों को स्पष्ट निर्देश है कि पाकिस्तान या किसी अन्य मुल्क में बैठे किसी भी आतंकी कमांडर या किसी अन्य राष्ट्रविरोधी तत्व के साथ संपर्क रखने वालों के खिलाफ संबंधित कानून के तहत कठोर कार्रवाई की जाए। राष्ट्र विरोधी गतिविधियों और राष्ट्र विरोधी तत्वों के खिलाफ जीरो टालरेंस की नीति अपनायी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here