मथुरा: औद्योगिक क्षेत्र के नाले का पानी बना इतने भैसों के लिए काल!

राजस्थान के भरतपुर जिले से कुछ गवारिया भैंसों का एक बड़ा झुंड लेकर उत्तर प्रदेश में भ्रमण करते हैं,क्योंकि चिलचिलाती गर्मी में राजस्थान से पानी एवं पशुओं के खाने के चारे की कमी आ जाती है।

मथुरा जिले के कोसीकलां के औद्योगिक क्षेत्र में नाले में 4 जून को एक साथ 13 भैंसों की जहरीला पानी पीने से मौत हो गई। पशु स्वामियों का लाखों रुपये का नुकसान हो गया है। यहां फैक्ट्रियों का केमिकल युक्त पानी बहता रहता है। घटना की जानकारी मिलते ही नायब तहसील दार राखी शर्मा मौके पर पहुंच गई और जांच की बात कही।

गौरतलब हो कि राजस्थान के भरतपुर जिले से कुछ गवारिया भैंसों का एक बड़ा झुंड लेकर उत्तर प्रदेश में भ्रमण करते हैं क्योंकि चिलचिलाती गर्मी में राजस्थान से पानी एवं पशुओं के खाने के चारे की कमी आ जाती है। जिसके कारण रजवाड़े अपने पशुओं को इधर उधर भेज देते हैं तो दर्जनों भैसों को लेकर 4 जून को राजस्थान निवासी विजय सिंह और उदय सिंह भैंस लेकर खेतों में चरा रहे थे। तभी भैंस पानी देखकर नाले में चली गई लेकिन औद्योगिक क्षेत्र में चल रही फैक्ट्रियों का केमिकल युक्त पानी नाले में बह रहा था, जिसको पीने से 13 भैसों की दर्दनाक मौत हो गई।

भैंस स्वामियों ने बताया कि एक भैंस की कीमत करीब लाखों रुपये है। इन भैसों के मरने से लाखों रुपये का नुकसान हो गया है। उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा राजस्थान प्रशासन को जानकारी दे दी गई है और जल्द ही राजस्थान की टीम मौके पर पहुंचेगी। बताया जाता है कि इन फैक्ट्रियों से निकलने वाले पानी का ट्रीटमेंट कर नाले में डालना चाहिए, जबकि किसी फेक्टरी में ट्रीटमेंट प्लांट चालू ही नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here