कर्नाटकः अब वीर सावरकर के समर्थकों पर जिहादी हमला

ताजा मामले में कर्नाटक के शिवमोगा में 15 अगस्त को वीर सावरकर के पोस्टर को लेकर विवाद पैदा होने के बाद शहर में तनाव फैल गया है।

नुपूर शर्मा का समर्थन करने वालों पर हमले के बाद अब इस्लामिक जिहादियों ने हिंदुत्ववादियों को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। भाजपा शासित राज्य कर्नाटक में टीपू सुल्तान पार्टी के कार्यकर्ताओं ने हिंदू युवक को इसलिए चाकू से गोद डाला क्योंकि, वे लोग 15 अगस्त को स्वातंत्र्यवीर सावरकर को आदरांजली दे रहे थे।

पिछले कुछ महीनों से कर्नाटक में देश और हिंदुत्व विरोधी ताकतें सर उठाने लगी हैं। इसके प्रमाण बीच-बीच में मिलते रहते हैं। पीएफआई और एसडीपीआई के बाद अब टीपू सुल्तान पार्टी द्वारा भी हिंदुओं और स्वतंत्रता सेनानियों के अपमान करने का मामला सामने आया है।

यह है मामला
ताजा मामले में कर्नाटक के शिवमोगा में 15 अगस्त को वीर सावरकर के पोस्टर को लेकर विवाद पैदा होने के बाद शहर में तनाव फैल गया है। इसे देखते हुए शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है और महत्वपूर्ण स्थानों पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। शिवमोगा के अमीर अहमद सर्कल में स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर का पोस्टर लगाया गया था। इसके विरोध में टीपू सुलतान पार्टी के लोग झंडा लेकर वहां पहुंच गए। मुस्लिम समुदाय के इन युवकों ने उसे हटाने की कोशिश की, जिसका हिंदू युवकों ने विरोध किया। इसी बीच मुस्लिम समुदाय के युवकों ने धरम सिंह नामक युवक को चाकू मार कर घायल कर दिया।

पुलिस ने किया लाठीचार्ज
दोनों समुदायों में विवाद बढ़ता देख पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। उसके बाद से मामला तो शांत हो गया है लेकिन शहर में तनाव अभी भी बरकरार है। इसे देखते हुए शिवमोगा पुलिस ने धारा 144 लागू कर दी है।

मैंगलोर में भी हिंदुत्ववादियों का विरोध
इसी तरह की एक घटना मैंगलोर के सुरतकाल चौराहे का नाम बदलने को लेकर घटी है। इस चौराहे का नामकरण वीर सावरकर के नाम पर किया जाना था। मेंगलुरु नगर निगम ने भाजपा विधायक भारत शेट्टी के अनुरोध पर इस चौराहे का नाम वीर सावरकर के नाम पर रखने के प्रस्ताव को मंजूर किया गया है। लेकिन ऐन मौके पर पीएफआई से जुड़ी पार्टी सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के कार्यकर्ताओं ने इस पर आपत्ति जताई। उसके बाद चौराहे का नामकरण रोक दिया गया।

जल्द ही होगा वीर सावरकर के नाम पर नामकरण
इस बारे में निगम आयुक्त अक्षय श्रीधर का कहना है कि चौराहे का नाम वीर सावरकर के नाम पर करने का प्रस्ताव निगम ने मंजूर कर लिया है लेकिन सरकार से इसे आधिकारिक मंजूरी मिलना बाकी है। जैसे ही सरकार की ओर से मंजूरी मिलेगी, चौराहे का नामकरण वीर सावरकर के नाम पर कर दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here