कंझावला प्रकरण हत्या या दुर्घटना? परिजनों ने व्यक्त की अनहोनी की आशंका, पुलिस भी संदेह के घेरे में

पुलिस ने पांच आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए संबंधित धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। वहीं परिजनों का कहना है कि उन्हें न्याय चाहिए। परिजनों ने शासन और प्रशासन से गुहार लगाई है कि वो इस मामले में सख्त कार्रवाई करें और आरोपितों को सख्त से सख्त सजा दिलाएं।

रोहिणी जिले के कंझावला क्षेत्र में युवती का शव मिलने के बाद मृतका का परिवार सामने आया है। युवती के परिजन इस मामले में पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़े कर रहे हैं। वहीं परिजन इस मामले में युवती के साथ अनहोनी होने की आशंका भी जता रहे हैं और निष्पक्ष रूप से जांच के साथ न्याय की गुहार लगा रहे हैं। वहीं गुस्साए परिजनों के साथ स्थानीय लोगों ने सोमवार सुबह सुल्तानपुरी थाने का घेराव किया और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की।

पुलिस की दुर्घटना वाली थ्योरी अविश्वसनीय
परिजनों ने बताया कि, मृतक युवती परिवार में अकेली कमाने वाली थी, जिसके सहारे पूरा परिवार का गुजारा हो रहा था। अब उसकी अचानक मौत के बाद परिवार बेसहारा हो गया है। वहीं परिवार, पुलिस के व्यवहार और उसकी कार्यशैली से भी नाखुश दिखाई दे रहा है और पुलिस प्रशासन पर लापरवाही का आरोप भी लगा रहा है। इतना ही नहीं, परिजन पुलिस के दुर्घटना वाले बयान को सिरे से नकारते हुए युवती के साथ अनहोनी की भी आशंका जता रहे हैं। उनका कहना है कि जिस अवस्था में युवती का शव बरामद हुआ है, वो उसके साथ कुछ गलत होने की ओर भी इशारा कर रहा है, लेकिन पुलिस इस पूरे मामले में लीपापोती करने का प्रयास कर रही है।

महिला आयोग ने उठाए सवाल
उक्त मामले में पुलिस ने पांच आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए संबंधित धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। वहीं परिजनों का कहना है कि उन्हें न्याय चाहिए। परिजनों ने शासन और प्रशासन से गुहार लगाई है कि वो इस मामले में सख्त कार्रवाई करें और आरोपितों को सख्त से सख्त सजा दिलाएं। वहीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कंझावला केस पर दिल्ली पुलिस से कुछ कुछ प्रश्न किए हैं।

यह भी पढ़ें – जम्मू-कश्मीर में फिर हिंदुओं को बनाया गया निशाना, ‘इस’ आतंकवादी संगठन ने ली जिम्मेदारी

क्या लड़की के साथ यौन शोषण किया गया था?, कितने किलोमीटर तक गाड़ी से लड़की को घसीटा गया, क्या पूरे रास्ते में कोई चेक पोस्ट या पीसीआर मौजूद नहीं थी, घटनास्थल से हुई पीसीआर कॉल पर क्या त्वरित कार्रवाई की गई, न्यू ईयर के मद्देनजर सुरक्षा की क्या खास तैयारी की गई थी और क्या आरोपित लड़कों पर पहले भी कोई मुकदमा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here