भारतीय अतिथियों का नेपाल में लूट से स्वागत, भारतीय दूतावास से मिली मदद

त्रिभुवन विश्वविद्यालय काठमांडू, नेपाल और साहित्य संचय शोध संवाद फाउंडेशन, दिल्ली, भारत के तत्वावधान में नेपाल के त्रिभुवन विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग में 10-11 जून के आयोजित दो दिवसीय अन्तरराष्ट्रीय संगोष्ठी में शामिल होने के लिए आ रहे दो भारतीयों को काठमांडू स्थित थामेल नामक जगह पर ट्रैक्सी ड्राईवर के मिली भगत से अपराधियों ने एक लाख भारतीय रुपये लूट लिया।

घटना के शिकार उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिला निवासी भीमराज पिता गिरधारीलाल और आजमगढ़ जिला निवासी उमापति यादव ने बताया कि हम दोनों बलखुडिया स्टैंड़ पर टैक्सी पकड़कर त्रिभुवन विश्वविद्यालय के पास किसी होटल में ठहरने के लिए जा रहे थे। रास्ते में टैक्सी ड्राइवर ने पूछा कि होटल में ठहरना हो तो, आप मेरे साथ चलें आपको सस्ते में, अच्छा होटल रूम दिलवा देता हूं। ट्रैक्सी ड्राइवर एक रेस्टोरेंट होटल में ले गया जिसका नाम हाय रेस्टोरेंट बार डांस लिखा हुआ था।रेस्टोरेंट के अंदर जाने पर छ-सात की संख्या में लड़के आये और कवर करते हुए हम दोनों पर हमला बोलते हूए मारना शुरू कर दिया। फिर बिजली का करंट लेकर सटा देने का भय दिखाते हुए नकद 15 हजार नेपाली रुपये सहित फोन पे से दस हजार और अस्सी हजार दो बार में ट्रांजेक्शन करके भारतीय रुपये ट्रांसफर करा लिया। जिसका ट्रांजेक्शन नं T22060817w6029669116437 है, जिसके खाते का नाम रिसेंट प्राइजेज है। फिर वहां से टैक्सीवाला हम दोनों को घटनास्थल से दो किलोमीटर आगे जाकर छोड़ दिया।

ये भी पढ़ें – अमेरिका जा रहे हैं? तो कोरोना टेस्टिंग का नया नियम आपकी परेशानी हल कर देगा

उस रात एक दूसरे होटल में रात गुजारे और फिर दूसरे दिन स्थानीय थाना बाला जू में जाकर घटना की जानकारी देकर प्राथमिकी दर्ज करानी चाही, तो पुलिस प्राथमिकी दर्ज नहीं की। फिर घटना की जानकारी भारतीय दूतावस को दी, तो दूतावास के पहल पर बाला जू थाना की पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here