चिपलून में फिर भारी बारिश, महाराष्ट्र के इन क्षेत्रों में भी बुरा हाल

पिछली बाढ़ में वशिष्ठ नदी का रौद्र रूप देखने को मिला था। इस नदी का जलस्तर एक बार फिर बढ़ने लगा है।

डेढ़ महीने पहले चिपलून शहर में बादल फटने से बाढ़ आ गई थी। उससे सैकड़ों लोगों की मौत हो गई थी। उस घटना को दोहराने का डर एक बार फिर चिपलून तालुका के नागरिकों को सता रहा है। क्षेत्र में 6 सितंबर की रात से ही झमाझम बारिश हो रही है। इस कारण दापोली, खेड़ और चिपलून बाजार में पानी भर गया है।

16 घंटे से भारी बारिश
दापोली तालुका, केलास्कर नाका, तहसील कार्यालय में रात में हुई भारी बारिश से पानी भर गया  है। इस कारण लोग रात भर सो नहींं पाए। मूसलाधार बारिश रात भर जारी रही। कहा जाता है कि दापोली के इतिहास में इतनी बारिश पहली बार हुई है।  चिपलून और दापोली में पिछले 16 घंटे से मूसलाधार बारिश हो रही है।

वशिष्ठ नदी ने बढ़ाई चिंता
पिछली बाढ़ में वशिष्ठ नदी का रौद्र रूप देखने को मिला था। इस नदी का जलस्तर एक बार फिर बढ़ने लगा है। लेकिन वह अभी खतरे के निशान से नीचे है। हालांकि नदी में बढ़ते जलस्तर ने एक बार फिर इसके किनारे रहने वाले लोगों में दहशत फैला दी है। वशिष्ठ और शिव नदी के किनारे के नागरिकों से सतर्क रहने का आग्रह किया गया है। कई जगहों पर निचले इलाकों में पानी भर गया है। अगर इसी तरह बारिश जारी रही तो शहर में हाई टाइड से बाढ़ आने का खतरा है।

ये भी पढ़ेंः तालिबान इस तरह बढ़ा रहा है भारत की टेंशन!

गणेशोत्सव में व्यवधान
मौसम विभाग ने अगले तीन-चार घंटों में मुंबई, पालघर और राज्य के अन्य हिस्सों में मूसलाधार बारिश की संभावना जताई है। इस संबंध में सावधानी बरतने की हिदायत दी गई है। मौसम विभाग ने पालघर, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी, पुणे, अहमदनगर, जलगांव, नासिक, धुले और नंदुरबार जिलों में भारी बारिश की संभावना जताई है। विभाग ने पहले घोषणा की थी कि महाराष्ट्र में अगले कुछ दिनों तक बारिश जारी रहेगी। कोंकण में भी पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश हो रही है। यहां फिलहाल गणेशोत्सव की तैयारियां जोरों पर हैं। बारिश होने के कारण बप्पा की तैयारियों में बाधा उत्पन्न हो रही  है। बारिश के चलते लोग खरीदारी के लिए घरों से बाहर निकल पा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here