सरकारी स्कूल का शिक्षक खेल रहा था धर्मांतरण का गंदा खेल, छात्रों को ईसाई बनने के लिए देता था ऐसा लालच!

हिंदुओं के धर्म परिवर्तन कराने को लेकर मुसलमानों के साथ ही ईसाईयों का भी षड्यंत्र जारी है। बीच-बीच में इस तरह के मामले उजागर होते रहते हैं। तेलंगाना में भी इसी तरह का एक मामला सामने आया है।

तेलंगाना में एक सरकारी स्कूल के शिक्षक द्वारा विद्यार्थियों को लालच देकर ईसाई धर्म अपनाने के लिए दबाव बनाने का मामला प्रकाश में आया है। मेलवार जिले के विरकाराबाद स्थित जिला परिषद के हाई स्कूल में गणित के शिक्षक पर इस तरह का आरोप लगा है।

विद्यार्थियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार स्कूल के गणित के शिक्षक रत्नम उन्हें ईसाई बनने का लालच देता था। वह उन्हें अमेरिका से पैसे और अन्य उपहार मिलने का लालच देता था। लीगल राइट्स प्रोटेक्शन फोरम ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस बारे में जानकारी दी है।

छात्रों ने लगाया भेदभाव करने का आरोप
इस घटना से पहले भी कुछ छात्रों ने इस शिक्षक पर भेदभाव करने का आरोप लगाया था। अपने आरोप में बच्चों ने कहा था कि मामूली गलती पर भी वह शिक्षक दलित और अन्य छात्रों को पैर छूकर माफी मांगने के लिए कहता था। इसके साथ ही वह जातिगत भेदभाव करता था और वह दलित छात्रों की पिटाई करता था। साथ ही साथ वह बच्चों को तरह-तरह से अपमानित करता था।

मां सरस्वती की तस्वीर हटाने का बनाता था दबाव
छात्रों का कहना है कि शिक्षक उन्हें कक्षा की दीवारों से मां सरस्वती की तस्वीरों को हटाने के लिए दबाव डालता था और ऐसा नहीं करने पर अभद्र भाषा का प्रयोग करता था। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है, लेकिन बच्चों से संबंधित कई धाराओं के तहत शिकायत नहीं दर्ज करने से स्थानीय लोग नाराज हैं। इस मामले में नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स यानी एनसीपीसीआर से हस्तक्षेप करने की मांग उठ रही है।

ये भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीर में चुन-चुनकर मारेगी सेना! जानिये, आतंक के सफाए की कैसी है तैयारी

पहले भी प्रकाश में आते रहे हैं ऐसे मामले

  • इस तरह के कई मामले पहले भी प्रकाश में आ चुके हैं। इसी महीने की शुरुआत में बेंगलुरू के एक स्कूल में एक बच्ची को सजा देने के लिए उससे इस्लामी ढंग से प्रार्थना कराई गई थी। आर्किड इंटरनेशनल स्कूल के गणित के शिक्षक ने छात्रा से एक सवाल हल नहीं करने पर अल्लाह की इबादत करने को कहा था।
  • 6 दिसंबर 2021 को बाबरी मस्जिद  ढहाए जाने की बरसी पर केरल के एक स्कूल में बच्चों को मैं हूं बाबरी बैज बांटा गया था। कोट्टंगल के चुंगप्पारा सेंट जॉर्ज स्कूल के बच्चों में इस तरह का बैज बांटने वाला कथित रुप से एसडीपीआई का कार्यकर्ता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here