दिल्ली में दबंग हुई पंजाब पुलिस?

आम अदमी पार्टी की पंजाब और दिल्ली दो राज्यों में सरकार है। अब ऐसा आरोप लगने लगा है कि, पंजाब पुलिस दिल्ली की आमद आदमी पार्टी की सरकार का भी कार्य संभालने लगी है।

राष्ट्रीय राजधानी में पंजाब पुलिस की दबंगई एक बार फिर सामने आई है। जिस पर कड़ा कदम उठाते हुए दिल्ली पुलिस ने पंजाब पुलिस पर अपहरण का प्रकरण दर्ज किया है। पिछले एक महीने में यह दूसरा प्रकरण है, जब पंजाब पुलिस की दबंगई और ओछी हरकत से दिल्ली वासियों का सामना हुआ है।

पंजाब पुलिस दिल्ली भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को दिल्ली स्थित निवास से उठा ले गई। तेजिंदर पाल सिंह पिछले लंबे काल से आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर नीतियों को लेकर टिप्पणियां कर रहे थे।

ये भी पढ़ें – भाजपा नेता तेजिंदर बग्गा गिरफ्तार, केजरीवाल को दी थी यह धमकी

दिल्ली पुलिस को चुनौती
अब पंजाब और दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार है, दिल्ली में पुलिस केजरीवाल सरकार के अधीन नहीं है, जबकि पंजाब पूर्ण राज्य का दर्जा प्राप्त राज्य है, जहां पुलिस राज्य सरकार के अधीन है। माना जा रहा है, इसी का लाभ लेकर पंजाब पुलिस ने तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को दिल्ली से उठा लिया। वैसे, जानकार इस घटना को दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती मान रहे हैं। यह दिल्ली पुलिस के अधिकार क्षेत्र का उल्लंघन भी माना जा रहा है।

दिल्ली में ‘शाह’ की पुलिस नहीं, पंजाब पुलिस ‘शहंशाह’
पंजाब पुलिस की दबंगई का यह प्रकरण पहला नहीं है, बल्कि एक महीने के भीतर दूसरा प्रकरण है। जिसके कारण अब प्रश्न उठने लगा है कि, राष्ट्रीय राजधानी में केंद्रीय गृह विभाग के अधीन दिल्ली पुलिस का अधिकार है या, पंजाब पुलिस ही शहंशाह है।
27 अप्रैल, 2022 को दिल्ली के इम्पीरियल होटल में पंजाब पुलिस ने वरिष्ठ पत्रकार नरेश वत्स से बदसलूकी की थी। वहां पर पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंतसिंह मान की प्रेस वार्ता आयोजित थी, जिसमें नरेश वत्स सम्मिलित होने जा रहे थे, परंतु प्रवेश द्वार पर पंजाब पुलिस ने उन्हें रोक लिया। अपना प्रेस इन्फोर्मेशन ब्यूरो का कार्ड दिखाने के बाद भी उन्हें प्रवेश देना तो दूर गिरफ्तार करने का आदेश पंजाब पुलिस के अधिकारियों ने दे दिया। इस घटना का दिल्ली प्रेस क्लब, पंजाब प्रेस क्लब, राजनीतिक नेताओं ने तीव्र विरोध किया। नरेश वत्स हिंदुस्थान पोस्ट के प्रिंसिपल कॉरेसपोंडेंट हैं, पत्रकारिता में  20 वर्षों से अधिक का उनका अनुभव रहा है।
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मान ने पत्रकार से किये गए दुर्व्यहार पर किसी की एक भी नहीं मानी, इसके उलट पंजाब पुलिस के माध्यम से दिल्ली में अपहरण करवा लिया। जिसमें भारतीय जनता पार्टी के नेता को ही दिल्ली के निवास से पंजाब पुलिस आकर दिन दहाड़े उठा ले गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here