सांसों के साहूकारों पर कार्रवाई! चार राज्यों में ताबड़तोड़ छापेमारी

कोरोना महामारी काल में परेशानियां बहुत हैं। लोगों को ऑक्सीजन, दवाई के लिए जगह-जगह दौड़ना पड़ रहा है।

60 के दशक में उन्होंने पुलिस की नौकरी की

कोविड 19 से देश त्रस्त है। उत्तर के राज्यों में तो सांस के लिए आवश्यक ऑक्सीजन पर पहरा बैठा दिया गया है। लेकिन इसक बाद भी सांसों के साहूकार एक-एक सांस के लिए तरस रहे संक्रमितों के परिजनों से मनमाना पैसा ले रहे हैं। ऐसे लोगों पर अब तीन राज्यों में ताबड़तोड़ कारवाई शुरू हो गई है।

लंबे समय से ऑक्सीजन सिलेंडर चुराकर भंडारण करने और मनमाने दाम पर बेचने के समाचार मिल रहे थे। इसमें पुलिस ने कार्रवाई भी की है। जिसके अंतर्गत बड़े-बड़े नामों का भी भंडाफोड़ हुआ और लोग जेल में भी गए। इस सबके बाद भी चोरी-छिपे यह धंधा चल रहा था। जिसके विरुद्ध तीन राज्य दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश की पुलिस ने अपने स्तर पर तोबड़तोड़ कार्रवाइयां शुरू कर दी हैं।

ये भी पढ़ें – वेरिएंट प्रकरण में ऐसे दूर हुई सिंगापुर की नाराजगी! बोला- हम खुश हैं

ठगी के चौधरी गिरफ्तार
दिल्ली क्राइम ब्रांच ने ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराने के नाम पर लोगों से ठगी करनेवाले चौधरी गिरोह के चार लोगों को गिरफ्तार किया है। ये सभी बिहार शरीफ और नालंदा के रहनेवाले हैं। इन लोगों के अकाउंट से करोड़ो का लेनदेन हुआ है। ये लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराने के नाम पर मनमाना पैसा लेते थे और उनसे धोखाधड़ी करते थे। इनके पास से पुलिस ने एटीएम कार्ड, नकदी, 21 मोबाइल फोन, 22 सिम कार्ड, लैपटॉप, आधार कार्ड बरामद किया गया है। जिस चौधरी गैंग से ये संबद्ध हैं वह बिहार के नालंदा से है।

पकड़े गए दर्द के व्यापारी
महामारी काल में लोगों की परेशानी का लाभ उठानेवाले भी कम नहीं हैं। इस संदर्भ में हरियाणा पुलिस को मिली शिकायतों के आधार पर पुलिस ने 37 प्रकरण दर्ज किये हैं। इनके विरुद्ध हरियाणा पुलिस ने विभिन्न जिलों में कार्रवाई की जिसमें 76 मुनाफाखोरों को जेल पहुंचा दिया है। ये सभी दवा, ऑक्सीजन की कालाबाजारी करते थे। इनके पास से पुलिस 132 रेमडेसिविर इंजेक्शन और 411 ऑक्सीजन सिलेंडर बरामद किया है।

ये भी पढ़ें – पीएम का दौरा गुजरात में, सियासी तूफान महाराष्ट्र में! शिवसेना ने कही ये बात

फर्जीवाड़े में भी भाई-भाई
उत्तर प्रदेश की एसटीएफ ने लखनऊ में छापा मारकर दो भाइयों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से पुलिस ने ऑक्सीजन के 40 भरे हुए सिलेंडर बरामद किया है। ये जानकी पुरम क्षेत्र में लोगों को अस्पताल के फर्जी लेटर हेड पर डिमांड लेटर बनाकर बढ़े हुए दामों पर ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराते थे।

जिसकी नौकरी उसी को चूना
पालघर जिले में सिद्धेश पाटील को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसके पास से 63 रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किया गया है। इसके अलावा इस प्रकरण में पालघर और नासिक से भी गिरफ्तारी और इंजेक्शन की बरादगी की गई है। इस संदर्भ में मिली जानकारी के अनुसार, सिद्धेश पाटील रेमडेसिविर बनानेवाली कंपनी  में काम करता है। वो वहीं से चोरी करके इन इंजेक्शन को लाता था और बाहर मनमाने कीमतों पर बेचता था। गिरफ्तार लोगों में महिलाओं का भी समावेश है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here